Friday, April 8, 2011

बाबा साहब डॉ. अंबेडकर का स्त्रीविमर्श

- डॉ. शरद सिंह
     नवरात्रि में देवी दुर्गा की शक्ति के रूप में आराधना में जगराते किए जाते हैं और व्रत-उपवास रखा जाता है। यह सब स्त्रियां ही नहीं पुरुष भी बढ़-चढ़ कर करते हैं। भारतीय पुरुष भी देवी के शक्तिस्वरूप को स्वीकार करते हैं किंतु स्त्री का प्रश्न आते ही विचारों में दोहरापन आ जाता है। इस दोहरेपन के कारण को जाँचने के लिए हमें बार-बार उस काल तक की यात्रा करनी पड़ती है जिसमें 'मनुस्मृति' और उस तरह के दूसरे शास्त्रों की रचना की गई जिनमें स्त्रियों को दलित बनाए रखने के 'टिप्स' थे, फिर भी पुरुषों में सभी कट्टर मनुवादी नहीं हुए। समय-समय पर अनेक पुरुष जिन्हें हम 'महापुरुष' की भी संज्ञा देते हैं, मनुस्मृति की बुराइयों को पहचान कर स्त्रियों को उनके मौलिक अधिकार दिलाने के लिए आगे आए और न केवल सिद्धांत से अपितु व्यक्तिगत जीवन के द्वारा भी मनुस्मृति के सहअस्तित्व-विरोधी बातों का विरोध किया। इनमें एक महत्वपूर्ण नाम है बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर का।

बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर
     आमतौर पर यही मान लिया जाता है कि बाबा साहब अंबेडकर समाज के दलित वर्ग के उद्धार के संबंध में क्रियाशील रहे अतः उन्होंने दलित वर्ग की स्त्रियों के विषय में ही चिंतन किया होगा। किंतु अंबेडकर राष्ट्र को एक नया स्वरूप देना चाहते थे। एक ऐसा स्वरूप जिसमें किसी भी व्यक्ति को दलित जीवन न जीना पड़े। अंबेडकर की दृष्टि में वे सभी भारतीय स्त्रियां दलित श्रेणी में थीं जो मनुवादी सामाजिक नियमों के कारण अपने अधिकारों से वंचित थीं।
   19जुलाई 1942  को नागपुर में संपन्न हुई 'दलित वर्ग परिषद्' की सभा में डॉ. अंबेडकर ने कहा था-‘नारी जगत्‌ की प्रगति जिस अनुपात में हुई होगी, उसी मानदंड से मैं उस समाज की प्रगति को आंकता हूं।’
     इसी सभा में डॉ. अंबेडकर ने ग़रीबीरेखा से नीचे जीवनयापन करने वाली स्त्रियों से आग्रह किया था कि- ‘आप सभी सफाई से रहना सीखो, सभी अनैतिक बुराइयों से बचो, हीन भावना को त्याग दो, शादी-विवाह की जल्दी मत करो और अधिक संतानें पैदा नहीं करो। पत्नी को चाहिए कि वह अपने पति के कार्य में एक मित्र, एक सहयोगी के रूप में दायित्व निभाए। लेकिन यदि पति गुलाम के रूप में बर्ताव करे तो उसका खुल कर विरोध करो, उसकी बुरी आदतों का खुल कर विरोध करना चाहिए और समानता का आग्रह करना चाहिए।’
      डॉ. अंबेडकर के इन विचारों को कितना आत्मसात किया गया, इसके आंकड़े घरेलू हिंसा के दर्ज आंकड़े ही बयान कर देते हैं। जो दर्ज़ नहीं होते हैं ऐसे भी हज़ारों मामले हैं। सच तो यह है कि स्त्रियों के प्रति डॉ. अंबेडकर के विचारों को हमने भली-भांति समझा ही नहीं। हमने उन्हें दलितों का मसीहा तो माना किंतु उनके मानवतावादी विचारों के उन पहलुओं को लगभग अनदेखा कर दिया जो भारतीय समाज का ढांचा बदलने की क्षमता रखते हैं।
नासिक-सत्याग्रह में डॉ. भीमराव अंबेडकर
(सन् 1930-1935)
     डॉ. अंबेडकर ने हमेशा हर वर्ग की स्त्री की भलाई के बारे में सोचा। स्त्री का अस्तित्व उनके लिए जाति, धर्म के बंधन से परे था, क्योंकि वे जानते थे कि प्रत्येक वर्ग की स्त्री की दशा एक समान है। इसीलिए उनका विचार था कि भारतीय समाज में समस्त स्त्रियों की उन्नति, शिक्षा और संगठन के बिना, समाज का सांस्कृतिक तथा आर्थिक उत्थान अधूरा है। इसी ध्येय को क्रियान्वित करने के लिए उन्होंने सन्‌ 1955 में 'हिंदू कोड बिल' तैयार किया। यही 'हिंदू कोड बिल' प्रत्येक तबके की स्त्रियों के अधिकारों का कानूनी दृष्टि से मूलभूत आधार बना।  

    वस्तुतः यह स्त्रियों की दलित स्थिति को बदलने का घोषणापत्र था। इसके जरिए स्त्रियों को समान अधिकार और संरक्षण दिए जाने की पैरवी की। उन्होंने इस बात पर बल दिया कि स्त्रियों को संपत्ति, विवाह-विच्छेद, उत्तराधिकार, गोद लेने, बालिग स्त्री की अनुमति के बिना उसका विवाह न किए जाने का अधिकार दिया जाए। भारतीय संस्कृति में वैवाहिक संबंध परंपरागत मान्यताओं पर आधारित होते हैं। इस परंपरागत आधार का अचानक टूटना सहजता से ग्राह्य नहीं हो सकता है।

         
डॉ. अंबेडकर का विचार था कि यदि स्त्री पढ़-लिख जाए तो वह पिछड़ेपन से स्वतः उबर जाएगी। आज स्त्रियों का बड़ा प्रतिशत साक्षर है, फिर भी वह अपनी दुर्दशा से उबर नहीं पाई है। यह ठीक है कि आज गांव की पंचायतों से ले कर देश के सर्वोच्च पद तक स्त्री मौजूद है लेकिन इसे देश की सभी स्त्रियों की प्रगति मान लेना ठीक उसी प्रकार होगा जैसे किसी प्यूरीफायर के छने पानी को देख कर गंगा नदी के पानी को पूरी तरह स्वच्छ मान लिया जाए।

                     (साभार-‘दैनिक नई दुनिया’ में प्रकाशित मेरा लेख)

68 comments:

  1. बाबा साहब के द्वारा बहुत ही सामयिक बात कही आपने....स्त्री के नाम पे पूजा करके निवृत्त हो जाना चाहते हैं लोग....जबकि जरूरत उनका वास्तविक सम्मान उनको देने की है.....
    नारी-शक्ति को प्रणाम.

    ReplyDelete
  2. बाबा साहब के विचारों से अवगत करने का आभार ....निश्चित रूप से आज भी उनके विचार आज भी प्रासंगिक हैं.....

    ReplyDelete
  3. सभी के पढ़ने योग्य एवं खास तौर पर महिलाओं में जागृति करने वाली बेहतरीन पोस्ट.सभी वर्ग की महिलाएं इसे ज़रूर पढ़ें तभी इसकी उपयोगिता होगी.

    ReplyDelete
  4. आदरणीय शरदजी नमस्कार ,
    आपने नारी समाज को जाग्रत करने के लिए बहुत अच्छी बात लिखी , आपकी पोस्ट पढ़ने पर जागरूकता आनी चाहिए क्योंकि यह बात हर वर्ग पर लागू होती है चाहे वो शिक्षित हों या अशिक्षित ! किन्तु हमारे देश का ये दुर्भाग्य है कि, हम कई महापुरुषों को अपना आदर्श तो मानते हैं किन्तु उनके द्वारा दिए गए सन्देश , विचारों को अपने जीवन में नहीं लाते ! जिस दिन महापुरुषों के आदर्शों पर हम चलने लगेंगे , देश का स्वरुप बदल जायेगा

    प्रेरणा दायक प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत बधाई एवं आभार

    ReplyDelete
  5. शिक्षा ही बहुत सारी समस्याओं का निदान कर सकती है। एक उच्च कोटि का आलेख। बहुत सी नई जानकारी मिली। आभार इस आलेख के लिए।

    ReplyDelete
  6. राजेश कुमार ‘नचिकेता’ जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया। आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    आपने सही लिखा कि-‘निश्चित रूप से आज भी उनके विचार आज भी प्रासंगिक हैं..... ’

    मेरे लेख को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !
    आपको सस्नेह धन्यवाद !

    ReplyDelete
  8. कुंवर कुसुमेश जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।

    ReplyDelete
  9. संजय कुमार चौरसिया जी,
    बाबा साहब के विचारों को समझने का मेरा यह छोटा-सा प्रयास आपको पसन्द आया, यह जानकर प्रसन्नता हुई ।
    आपकी अत्यन्त आभारी हूं।

    ReplyDelete
  10. मनोज कुमार जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    मुझे लगता है कि महापुरुषों के अनेक विचारों को बिना किसी पूर्वाग्रह के पुनः व्याख्यायित किए जाने की आवश्यकता है।

    ReplyDelete
  11. शिक्षा का जैसे जैसे विस्तार होगा वैसे वैसे स्त्रियों की स्थिति में सुधर होने की सम्भावना है ...बहुत अच्छा लेख ...अच्छी जानकारी मिली

    ReplyDelete
  12. संगीता स्वरुप जी,
    आपने सही लिखा कि-‘शिक्षा का जैसे जैसे विस्तार होगा वैसे वैसे स्त्रियों की स्थिति में सुधर होने की सम्भावना है ...’

    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  13. शरद जी , बाबा साहब के विचारों से अवगत कराने का आभार .शिक्षा के माध्यम से ही स्त्रियों की स्थिति सुधर पाएगी.. अच्छा लेख .

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छा लेख ...अच्छी जानकारी मिली

    ReplyDelete
  15. शिक्षा तो बहुत सी समस्यायों का हल है ..एक उच्च कोटि का आलेख .बहुत शुक्रिया बाबा भीम राव आंबेडकर के विचारों से अवगत करने का.

    ReplyDelete
  16. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (09.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  17. आपका स्त्रियों की समाज में हीन दशा को परिलक्षित करता दर्द आपकी इस भावपूर्ण अभिव्यक्ति में समा गया है.आशा है सभी इस दर्द को समझ कर अपने अपने स्तर पर सहयोग प्रदान करेंगें.बाबा साहेब के बारे में जानकर अच्छा लगा.
    मेरे ब्लॉग पर आपके अभी तक न आने का मुझे भी दर्द है.आप सहृदय हैं,निराशा की उम्मीद तो नहीं है मुझे.

    ReplyDelete
  18. बाबा साहेब वास्तव में समानता के पोषक थे !वह नए भारत को ऊँच-नीच, जात-पात ,अमीर- गरीब की बुराइयों से मुक्त देखना चाहते थे !
    सचमुच उनके विचार आज भी प्रासंगिक हैं !
    इस सुन्दर आलेख के लिए आभार !

    ReplyDelete
  19. शिवकुमार ( शिवा)जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया। आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  20. अमरेन्द्र ‘अमर’ जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।

    ReplyDelete
  21. शिखा वार्ष्णेय जी,
    आपने सही लिखा कि-‘शिक्षा तो बहुत सी समस्यायों का हल है ..’
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया। आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  22. Er. सत्यम शिवम जी,
    शनिवासरीय चर्चा मंच हेतु मेरे इस लेख का चयन करने के लिए आपका हार्दिक आभार !
    बाबा साहब के विचारों को समझने का मेरा यह छोटा-सा प्रयास आपको पसन्द आया, यह जानकर प्रसन्नता हुई ।
    आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  23. राकेश कुमार जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया....
    मेरे इस लेख को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  24. A beautiful and very inspiring post. Thanks Dr Sharad.

    ReplyDelete
  25. ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी,
    आपने सही लिखा कि-‘बाबा साहेब वास्तव में समानता के पोषक थे !वह नए भारत को ऊँच-नीच, जात-पात ,अमीर- गरीब की बुराइयों से मुक्त देखना चाहते थे !’

    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  26. Dr Divya Shrivastawa,
    I feel honored by your comment.
    Hearty Thanks!
    You're always welcome.

    ReplyDelete
  27. हकीकत और दिखावे में हम लोग अक्सर फर्क कर देते हैं ! शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  28. सतीश सक्सेना जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे लेख को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  29. शरद जी , बाबा साहब के विचारों से अवगत कराने का आभार .शिक्षा के माध्यम से ही स्त्रियों की स्थिति सुधर पाएगी! अच्छा लेख !
    SAADAR

    ReplyDelete
  30. डा.अम्बेडकर के विचारों को बहुत अच्छी तरह से प्रस्तुत किया है ,आभार !

    ReplyDelete
  31. सुनील गज्जाणी जी,
    आपने सही लिखा कि-‘शिक्षा के माध्यम से ही स्त्रियों की स्थिति सुधर पाएगी!.’
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  32. ज़ाकिर अली ‘रजनीश’जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे लेख को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  33. निवेदिता जी,
    मेरे इस लेख को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  34. bahut sarthak lekh. dil se aabhari hun apki is lekh ko ham tak padhane ke liye. bahut si nayi jankariyan mili. ek-matr shiksha hi is sthiti se ubharne ka hal hai.

    ReplyDelete
  35. खूबसूरत प्रस्तुति ! बधाई

    ReplyDelete
  36. वाकई कुछ विशेष काबिलियत वाली अत्यन्त सीमित प्रतिशत की महीलाओं की यदि बात छोड दी जावे तो स्त्रियों का एक बडा तबका आज भी करीब-करीब शोषित परिस्थितियों में ही जी रहा है ।

    ReplyDelete
  37. आदरणीय शरद जी,

    आपने लिक से हटकर एक नए दृष्टिकोण के तहत बाबा साहब के विचारों को प्रस्तुत किया है. वास्तव में बाबा साहब मानव नहीं, महामानव थे. वे जाति-पाति के स्तर से बहुत ऊपर के सोच के थे. बहुत ही अच्छा लिखा आपने.

    बहुत -बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  38. अनामिका जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे लेख को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  39. अमृता तन्मय जी,
    मेरे इस लेख को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  40. सुशील बाकलीवाल जी,
    आपने सही लिखा कि-‘स्त्रियों का एक बडा तबका आज भी करीब-करीब शोषित परिस्थितियों में ही जी रहा है ।’

    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  41. मनोज कुमार जी,
    बाबा साहब के विचारों को समझने का मेरा यह छोटा-सा प्रयास आपको पसन्द आया, यह जानकर प्रसन्नता हुई ।
    आपकी अत्यन्त आभारी हूं।

    ReplyDelete
  42. ऐसे ही प्रेरणादायक विचारों से अब शनैः-शनैः जागरूकता आ रही है।
    इस महत्वपूर्ण आलेख के लिए आभार।

    ReplyDelete
  43. 2011 की जनगणना में स्त्री का घटता अनुपात भी सामने आया है जो की चिंतनीय है और स्त्री की सामाजिक स्थिति की ओर संकेत करता है । आपने सही कहा । अभी बहुत लंबा सफर तय करना है । बहुत अच्छा लेख ।

    ReplyDelete
  44. nissndeh stri unnti se hi smaj ki unnti snbhv hai .sbhi mahapurash is bare men ek mat hain , ambedkar ji vicharon se prichit krane ke lie shukriya
    sunder aalekh

    ReplyDelete
  45. महेन्द्र वर्मा जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  46. रजनीश तिवारी जी,
    आपने सही लिखा कि-‘2011 की जनगणना में स्त्री का घटता अनुपात भी सामने आया है जो की चिंतनीय है.. ’

    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे लेख को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  47. Dilbag Virk ji,
    Hearty Thanks your comment...

    ReplyDelete
  48. रामनवमी की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  49. एक से बढ़कर एक आलेखों को प्रस्तुत करना आपको बखूबी आता है. मेरी बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  50. नचिकेता जी आपकी टिप्पणी उचित है और मैं तो कहती हूं कि नारी को कोई देवी,शक्तिस्वरूपा जैसे बड़े बड़े अलंकरणों से भी मत सजाइये।
    ये समाज एक इंसान के रूप में ही महिलाओं को अच्छे से समझ ले तो वो काफी बंधनों से मुक्त हो सकती हैं।
    बाहर निकलकर महिलाओं के उत्थान की दोहरी बातें की जाती हैं और अपने घर वापस आकर महिलाओं को फिर पारंपरिक चश्मे से देखा जाता है।
    इसलिए नारे, अलंकरण, आंदोलन की बजाय समाज को अपनी दोहरी मानसिकता को त्यागना होगा।

    ReplyDelete
  51. बहुत ही उपयोगी और सार्थक लेख ...
    बाबा साहब क्रन्तिकारी युग पुरुष थे ....वे दलितों के उत्थान के हिमायती थे साथ-साथ नारी उत्थान के भी.

    ReplyDelete
  52. कुंवर कुसुमेश जी,
    आपको भी रामनवमी की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  53. अबनीश सिंह चौहान जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरे लेख पसन्द आते हैं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  54. मानव जी,
    आपके विचारों से अवगत होना सुखद लगा।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  55. सुरेन्द्र सिंह " झंझट " जी,
    आपने सही लिखा कि-‘बाबा साहब क्रन्तिकारी युग पुरुष थे ....वे दलितों के उत्थान के हिमायती थे साथ-साथ नारी उत्थान के भी.’

    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे लेख को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  56. सम्माननीया डॉ शरद जी -ज्ञान वर्धक लेख -समाज की नारियों के उत्थान के लिए बाबा साहेब अम्बेडकर के विचारों को यहाँ उजागर किया आप ने -अब रही आत्मसात करने की बात उसी में तो आज तक हम पीछे रह जाते हैं जहाँ हमारा स्वार्थ सिद्ध होता है शीघ्र फल मिलता है हम भेंड सा उस कुएं में तुरन्त कूद जाते हैं ये बहुत अच्छी बात है की आज भी प्रबुद्ध वर्ग का आप जैसा एक तबका इस कार्य में निरंतर लगा है -किनारा दूर ही सही कभी न कभी हमे ये धारा थपेड़े खिलाते मंजर दिखाएगी ही

    साधुवाद

    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५

    ReplyDelete
  57. सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी...विचारों से अवगत कराने के लिए.
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए हार्दिक धन्यवाद! आपका स्वागत है!

    ReplyDelete
  58. काफी कुछ नया पाया, धन्यवाद.

    ReplyDelete
  59. धीरेन्द्र सिंह जी,
    आपके विचारों से अवगत होना सुखद लगा।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  60. बाबा साहब का चिंतन ही हमारे संविधान में ऐसी व्यवस्था दे सका है. पर अभी भी काम शेष है शरद जी

    ReplyDelete
  61. इस उत्तम आलेख के लिए बधाई...

    ReplyDelete
  62. मुझे समझ नहीं आता आखिर क्यों यहाँ ब्लॉग पर एक दूसरे के धर्म को नीचा दिखाना चाहते हैं? पता नहीं कहाँ से इतना वक्त निकाल लेते हैं ऐसे व्यक्ति. एक भी इंसान यह कहीं पर भी या किसी भी धर्म में यह लिखा हुआ दिखा दें कि-हमें आपस में बैर करना चाहिए. फिर क्यों यह धर्मों की लड़ाई में वक्त ख़राब करते हैं. हम में और स्वार्थी राजनीतिकों में क्या फर्क रह जायेगा. धर्मों की लड़ाई लड़ने वालों से सिर्फ एक बात पूछना चाहता हूँ. क्या उन्होंने जितना वक्त यहाँ लड़ाई में खर्च किया है उसका आधा वक्त किसी की निस्वार्थ भावना से मदद करने में खर्च किया है. जैसे-किसी का शिकायती पत्र लिखना, पहचान पत्र का फॉर्म भरना, अंग्रेजी के पत्र का अनुवाद करना आदि . अगर आप में कोई यह कहता है कि-हमारे पास कभी कोई आया ही नहीं. तब आपने आज तक कुछ किया नहीं होगा. इसलिए कोई आता ही नहीं. मेरे पास तो लोगों की लाईन लगी रहती हैं. अगर कोई निस्वार्थ सेवा करना चाहता हैं. तब आप अपना नाम, पता और फ़ोन नं. मुझे ईमेल कर दें और सेवा करने में कौन समय और कितना समय दे सकते हैं लिखकर भेज दें. मैं आपके पास ही के क्षेत्र के लोग मदद प्राप्त करने के लिए भेज देता हूँ. दोस्तों, यह भारत देश हमारा है और साबित कर दो कि-हमने भारत देश की ऐसी धरती पर जन्म लिया है. जहाँ "इंसानियत" से बढ़कर कोई "धर्म" नहीं है. मेरे बारे में एक वेबसाइट को अपनी जन्मतिथि, समय और स्थान भेजने के बाद यह कहना है कि- आप अपने पिछले जन्म में एक थिएटर कलाकार थे. आप कला के लिए जुनून अपने विचारों में स्वतंत्र है और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता में विश्वास करते हैं. यह पता नहीं कितना सच है, मगर अंजाने में हुई किसी प्रकार की गलती के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ. अब देखते हैं मुझे मेरी गलती का कितने व्यक्ति अहसास करते हैं और मुझे "क्षमादान" देते हैं.

    ReplyDelete
  63. गिरीश मुकुल जी,
    आपके विचार बिलकुल सही हैं.
    आपके विचारों से अवगत होना सुखद लगा।आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  64. समीर लाल जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा लेख पसन्द आया।
    आपको हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  65. रमेश कुमार जैन जी,
    आपके व्यक्तिगत विचार जानकर प्रतन्नता हुई किन्तु यदि आप संदर्भगत बाबा साहब के चिंतन के बारे में अपने विचार देते तो और समीचीन होता।
    मेरे इस ब्लॉग पर आने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  66. BAHOT ACCHA LIKHA HAI MAM APNE ,KASH AAP JAISI AUR LADIES NE Dr.BABASAHAB KO SAMJHA HOTA TO AAJ BHARAT DESH KAHA PAHUNCH GAYA HOTA....... GREAT WORK THANKS...... JAI BHIM...JAI BHARAT...

    ReplyDelete
  67. आज स्त्रियों का बड़ा प्रतिशत साक्षर है, फिर भी वह अपनी दुर्दशा से उबर नहीं पाई है। -----आखिर क्यों ...
    कोई नयी बात नहीं लिखी गयी है आलेख में ...लगभग ५० वर्षों से बाबासाहेब के ये विचार हमें ज्ञात हैं ...परन्तु फिर भी वही हालात हैं .. भेड -चाल की भाँति हांजी हांजी ..बहुत अच्छा...खूब लिखा कहने वाले ज़रा सोचें ...वस्तुतः बड़े सतही तौर के विचार हैं जो बाबासाहेब द्वारा व्यक्त किये गए हैं ...वही सारे विचार विभिन्न तरीके से सभी धर्म, जातियां, पंथ व्यक्त करते रहे हैं ..परन्तु अभी भी परनाला वहीं बह रहा है ... कुछ स्त्रियों के अलावा अधिकाँश स्त्रियों की दशा वही है ...क्यों ...
    ---- वास्तव में उलटी गंगा बहाई जा रही है ....मनुवादी विचारों का उचित व संतुलित एवं सामयिक-भाव में प्रचार-प्रसार ही इस समस्या का निदान है ....
    ---- पुनः सोचें , विचारें , मनन करें कि मनुवादी व्यवस्था है क्या.....निश्चय ही अम्बेडकर ...मनु से अधिक विद्वान् नहीं थे.....

    ReplyDelete