Sunday, November 27, 2022

कवि नरेश मेहता जन्मशती पर राष्ट्रीयसंगोष्ठी में विषय विशेषज्ञ डॉ (सुश्री) शरद सिंह

"जब अनुभव, संवेदनाएं और विचार एकसाथ काम करते हुए किसी काव्य का सृजन करते हैं तो वह कविता युगसाक्षी काव्य के रूप में प्रकट होती है। नरेश मेहता ने अपने युग को न केवल जिया अपितु अतीत के कथानकों पर रख कर विश्लेषित और आंकलित भी किया। चाहे ‘‘संशय की एक रात’’ हो या ‘‘प्रवाद पर्व’’ हो, वे गद्य या पद्य के शिल्प से ऊपर उठ कर मानव प्रजाति के सांस्कृतिक विकास के धनात्मक एवं ऋणात्मक पक्ष को सामने रखने का पूरा यत्न करते हैं। ... नरेश मेहता उस ‘‘भाव-प्रजाति के कवि’’ थे जो किसी वाद या खेमे में स्वयं को खड़ा किए बिना अपनी बात रखने का साहस रखते थे।" विषय विशेषज्ञ के रूप में मैंने अपने ये विचार रखे  महाराज छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय छतरपुर के हिंदी विभाग एवं केंद्रीय हिंदी संस्थान द्वारा कवि नरेश मेहता के जन्म शताब्दी के अवसर पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी के प्रथम दिन के प्रथम तकनीकी सत्र में । 25 नवंबर 2022 को।
     मेरा विषय था, "कवि नरेश मेहता और उनकी भाव-प्रजाति"।
      सत्र अध्यक्षता डॉ देवेंद्र शुक्ल अध्यक्ष सूचना एवम् भाषा प्रौद्योगिकी विभाग, केंद्रीय हिंदी संस्थान आगरा ने की। मेरे यानी डॉ (सुश्री) शरद सिंह के साथ ही, निराला पीठ के निदेशक डॉ श्रीराम परिहार ने, सागर विश्वविद्यालय के संस्कृत विभाग के आचार्य आनंद प्रकाश त्रिपाठी, ग्वालियर के डॉ विष्णु अग्रवाल ने अपने विचार रखे। सत्र का संचालन किया हिंदी विभाग की प्रो गायत्री बाजपेयी ने। संगोष्ठी के संयोजक थे प्रो बहादुर सिंह परमार जी ।
#नरेशमेहता #डॉसुश्रीशरदसिंह #महाराजछत्रसालबुंदेलखंडविश्वविद्यालयछतरपुर #राष्ट्रीयसंगोष्ठी #नरेशमेहताजन्मशताब्दी

डॉ हरिसिंह गौर जयंती 2022 | डॉ (सुश्री) शरद सिंह


मित्रो, गौर जयंती पर दिनभर की गहमागहमी के बाद रात को विश्वविद्यालय परिसर में मेले-सा माहौल देखते ही बनता है... अपने पितृपुरुष डॉ हरिसिंह गौर जी के जन्मदिन मनाने का उत्साह...

#डॉहरिसिंहगौरविश्वविद्यालय

#डॉहरिसिंहगौरजयंती

#डॉसुश्रीशरदसिंह

#DrMissSharadSingh

#DrHSGourUniversity

Article | Climate Change and Our Eating Behavior | Dr (Ms) Sharad Singh | Central Chronicle


Article
Climate Change and Our Eating Behavior
-    Dr (Ms) Sharad Singh
Writer, Author & Social Activist
Blogger - "Climate Diary Of Dr (Ms) Sharad Singh"

Sometimes such things also have such a deep impact on each other that we cannot even think about them. When someone says that our food habits have a profound effect on the climate, we find it strange to hear it. Humans have been associated with food since the dawn of their existence. Food keeps him alive. But the same food is now having a negative impact on the climate in the form of a carbon footprint. Let us see how our food habits affect the climate and how we can bring changes in our food habits.

What connection could there be between climate change and our eating habits? It sounds weird too. But the truth is that our eating behavior also has a positive or negative impact on climate change. What we eat, and how that food is produced, affects our health but also the climate. Now it needs to be understood a little openly. Actually, food needs to be grown and processed, transported, distributed, prepared, consumed, and sometimes disposed of. Each of these steps creates greenhouse gases that trap the sun’s heat and contribute to climate change. About a third of all human-caused greenhouse gas emissions is linked to food.

Climate scientists say change, including moderating our diets, is exactly what's needed to bring down greenhouse gas emissions from food. That means eating less red meat and more plant-based foods. Producing plant-based foods generally results in fewer greenhouse gas emissions and requires less energy, land, and water. Opting for seasonal fruits produce rather than buying, say, non-seasonal fruits can also make a difference. Meat, cheese and eggs have the highest carbon footprint. Fruit, vegetables, beans and nuts have much lower carbon footprints. If we move towards a mainly vegetarian diet, we can have a large impact on our personal carbon footprint.
The largest chunk of food-related greenhouse gases comes from agriculture and land use. For instance - methane from cattle’s digestive process, nitrous oxide from fertilizers used for crop production, carbon dioxide from cutting down forests for the expansion of farmland, other agricultural emissions from manure management, rice cultivation, burning of crop residues, and the use of fuel on farms. With this, a share of the greenhouse gas emissions are caused by refrigeration and transport of food, industrial processes such as the production of paper and aluminum for packaging, the management of food waste too. Then there are several other stages in a food system directly or indirectly responsible for carbon emissions. For instance, felling forests to make way for farms and pastures removes a major carbon sink and thus indirectly contributes to emission load in the atmosphere. Running farm machinery on fossil fuels and manufacturing of agrochemicals and fertilisers too emit greenhouse gases.
The climate impact of food is measured in terms of greenhouse gas emissions intensity. The emissions intensity is expressed in kilograms of “carbon dioxide equivalents” – which includes not only CO2 but all greenhouse gases – per kilogram of food, per gram of protein or per calorie. Animal-based foods, especially red meat, dairy, and farmed shrimp, are generally associated with the highest greenhouse gas emissions. This is because meat production often requires extensive grasslands, which is often created by cutting down trees, releasing carbon dioxide stored in forests. Cows and sheep emit methane as they digest grass and plants.The cattle’s waste on pastures and chemical fertilizers used on crops for cattle feed emit nitrous oxide, another powerful greenhouse gas. Shrimp farms often occupy coastal lands formerly covered in mangrove forests which absorb huge amounts of carbon. The large carbon footprint of shrimp or prawns is mainly due to the stored carbon that is released into the atmosphere when mangroves are cut down to create shrimp farms.

Plant-based foods – such as fruits and vegetables, whole grains, beans, peas, nuts, and lentils – generally use less energy, land, and water, and have lower greenhouse gas intensities than animal-based foods.
76% of the world's population gets most of its daily nutrients from plants—yet climate change is already causing droughts and flooding that can destroy staple food crops. If extra CO2 in the atmosphere makes those crops less nutritious, it will be even harder to feed the world's growing population. Increased water scarcity due to climate change reduces the capacity to produce food and its quality, which has serious implications for food security, nutrition and health. In Ethiopia alone 9.7 million people are currently in need of emergency food aid. The more climate changes and the more that extreme climate events become commonplace, the more food we lose on an annual basis. According to the UN's Food and Agriculture Organization, roughly one-third of the food produced by farmers is lost between the field and the market in low- and middle-income countries.
So, how can food-related emissions are reduced? Indeed, reducing emissions from the food sector requires changes at all stages, from producers to consumers. By including more and more vegetarian foods in our diet, we can significantly reduce greenhouse gas emissions. Consuming higher amounts of low-emitting substances—beans, chickpeas, lentils, nuts, and grains—as opposed to high-emitting substances—meat and dairy products such as butter, milk, cheese, meat, coconut oil, and palm oil. We can significantly reduce our environmental impact by making small changes in our eating habits. This change will be beneficial for both health and climate from every point of view. In the last decade, the trend towards being vegetarian has increased in developed western countries like America and Britain. There is no religious reason behind this but the desire to reduce the carbon footprint. That is why even those people who have been eating meat for generations are becoming vegan. Such efforts make a lot of sense towards reducing the carbon footprint in the climate. Therefore, we should also pay attention to the behavior of our food so that we too leave at least a carbon footprint.
---------------------------------
(27.11.2022)
#climatechange  #MyClimateDiary
#UNClimateChange
#savetheearth
#DrMissSharadSingh
#eatingbehavior #ClimateChange

Thursday, November 24, 2022

श्री के. एस. नूर , एडमिरल भारतीय नौसेना (रिटा.) जी के साथ 'टी-पार्टी' - डॉ (सुश्री) शरद सिंह

मित्रो, कभी-कभी चौंका देने वाली घटना हो जाती है। शुरुआत सामान्य थी... एक आत्मीय आमंत्रण प्रिय साहिबा नासिर जी की ओर से जिसमें उन्होंने घर पर आमंत्रित किया था अपने बड़े भाई  श्री के. एस. नूर , एडमिरल भारतीय नौसेना (रिटा.) जी के साथ एक 'टी-पार्टी' के लिए। एक सैन्य डिसिप्लिन वाली पार्टी की कल्पना थी और एडमिरल नूर के  स्वभाव का अनुमान लगाना कठिन था। लेकिन जब मैं बहन साहिबा जी के घर पहुंची और नूर साहब से जब परिचय कराया गया तो उनकी सादगी सहजता देखकर मैं चकित रह गई। कुछ चर्चा- परिचर्चा के बाद और पर्तें खुलीं, तो पता चला कि नूर साहब ख़ुद भी बेहतरीन शायरी करते हैं। वे कहानियां भी लिखते हैं। उनकी कई किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं। यह सब जानना सुखद आश्चर्य था। मैंने भी उन्हें अपनी तीन पुस्तकें भेंट की।
     शेरो-शायरी और गानों का दौर चला। 
     बाहरहाल, इस ख़ुशनुमा मुलाक़ात की जो सबसे यादगार बात थी वह यह कि नौसेना के सर्वोच्च पद से सेवानिवृत्त होने वाला व्यक्ति भी एकदम सरल और सहजता भरा हो सकता है, यह किसी आश्चर्य से कम नहीं था। नूर साहब का हंसमुख स्वभाव बिलकुल अपनी बहन साहिबा जी और बहनोई  नासिर सिद्दकी की तरह। 
 
   🌷Thank you very much Sahiba Nasir ji for a pleasant tea party  ☕

बतकाव बिन्ना की | अपने किसान भैया भौतई जिगरा वारे आएं | डाॅ. (सुश्री) शरद सिंह | बुंदेली कॉलम | बुंदेली व्यंग्य | प्रवीण प्रभात

"अपने किसान भैया भौतई जिगरा वारे आएं"  मित्रो, ये है मेरा बुंदेली कॉलम "बतकाव बिन्ना की" साप्ताहिक #प्रवीणप्रभात , छतरपुर में।
------------------------
बतकाव बिन्ना की      
अपने किसान भैया भौतई जिगरा वारे आएं                             
- डाॅ. (सुश्री) शरद सिंह
            ‘‘काए भैयाजी! बड़ी हांफी-सी आ रई, काए कां से भगत चले आ रए?’’ मैंने भैयाजी से पूछी। ठंड परन लगी मनो उनके माथे पे पसीना चुचुआ रओ हतो।
‘‘ने पूछो बिन्ना! रामधई गोड़े दुखन लगे, कम्मर पिरान लगी। जे कै लेओ के हाड़-गोड़ सबई कछू पिरा रए।’’ भैयाजी ऊंसई हांफत-हांफत बोले।
‘‘चलो लेओ! जो ठंडो पानी पियो! कछु अच्छो लगहे।’’ मैंने भैयाजी को पानी को गिलास थमा दओ।
‘‘अरे मोरी बिन्ना! जे ठंडे पानी से कछू न हुइए। चाय-माय पिलाओ सो कछू जान में जान आए।’’ भैयाजी कही।
‘‘हऔ, चाय सोई पिला दे रई।’’ मैंने भैयाजी से हंस के कही औ चाय बनाबे के लाने किचन में चली गई।
‘‘लेओ, जे रही आपकी चाय!’’ मैंने भैयाजी खों कप पकरा दओ। तब लों भैयाजी सुस्ता चुके हते।
‘‘चलो, अब आप बताओ के किते से आ रए जो इत्ते थक गए? मों देख के ऐसो लग रओ के मनो कोनऊं ने कुचर-कुचर के मारो होय।’’ मैंने भैयाजी से पूछी।
‘‘ऐसई समझ लेओ बिन्ना! अपने जे किसान भैया हरें बड़े जिगरा वारे कहाने, ने तो हमाए तो दोई दिना में राम नाम सत्त भओ जा रओ हतो।’’ भैयाजी बोले।
‘‘ऐसो ने कहो भैयाजी! शुभ-शुभ बोलो! राम नाम सत्त होएं आपके दुस्मन के। मनो जे किसान भईयन की बात कां से आ गई?’’ मैंने भैयाजी से पूछी।
‘‘आने कां से? अरे, तुमने अखबार में पढ़ो हुइए के आजकाल सरकार किसानों के लाने यूरिया बांट रई।’’ भैयाजी बोले।
‘‘सो, आप को का करने? आपके कोन से खेत आएं?’’ मैंने भैयाजी खों टोकों।
‘‘मोय नई चायने रओ। बाकी मोरो संग वारो आए न वो, रामचरण, ऊके खेत आएं। ऊने मोसे कई के संगे चलो! उते लेन में लगे-लगे जी सो उकता जात आए। अपन दोई रैहें सो चाए बतकाव करहें, चाए काना-दुआ खेलहें। तुमाओ खर्चा-पानी हमाई तरफी से। हमसे सोई सोची के आजकाल कछु खास काम सो है नईं, सो रामचरण के संगे घूम आएं।’’ भैयाजी बोले।
‘‘अच्छो करो!’’ मैंने भैयाजी से कही।
‘‘का अच्छो करो! हमाई मति मारी गई रई के ऊकी बातन में आ गए। वा सो हर साल जात रैत आए, सो ऊको सब पतो आए। मनो हमें सो कछु पतो नई रओ। हमने सोची के ऊके संगे जाबी, घूमबी, फिरबी। दोई जने बतकाव करबी औ अच्छो माल-टाल छानबी। काए से के ऊकी घरवारी ने मुतकी चीजें बना के संगे बांध दई रई।’’ भैयाजी बातन लगे।
‘‘फेर?’’ मैंने भैयाजी से पूछी।
‘‘फेर का! काल दुफारी बाद लो उते पौंचे। कछु नईं तो एक-डेढ़ किलोमीटर लम्बी लेन लगी रई। हम दोई जने ट्रेक्टर की ट्राली पे बैठ के काना-दुआ खेलने लगे। इत्ते में दो-चार जने औ आ गए। बे ओरें चा रए हते के ऊमें पइसा लगाओ जाए। बाकी हमने कै दई के हमें जुआ-पट्टी नईं करने! टेम पास की खेलने होय सो खेलो, ने तो फूटो इते से। बे ओरे हम ओरन से पैले से उते मौजूद रए, सो बे पैलऊं भौत बोर हो चुके रए। सो, बे बिना पइसा की खेलबे खों राजी हो गए। दिन ढर गओ, रात हो आई, मनो हम ओरन को नंबर ने आओ।’’ भैयाजी बोले।
‘‘फेर?’’ मैंने पूछी।
‘‘फेर जे के, रात को खुल्ले में हम दोई जने डरे हते। गरम हुन्ना-लत्ता सो ले गए रए, फेर बी जाड़ो लगत रओ। जेई में एक बड़ी उम्मर के किसान भैया हते सो उनकी तबीयत बिगर गई। हम ओरने को लगो के कहूं बे निपट ने जाएं। सो, दो-तीन जने उनको ले के अस्पताले दौड़े। अपने रामचरण भैया के बे पैचान वारे हते सो रामचरण सोई उनके संगे चलो गओ। औ जात-जात मोसे कै गओ के ऊको नंबर को खयाल मोय रखने परहे। सो, जे चिंता में मोय नींद लो नई आई। रई बिछावन की, सो, बा ट्राली पे चाए कोनऊ टाईप को गद्दा डाल लओ जाए, रैतो सो पथरई घांई। अखीर लोहा, सो लोहा ठैरो। ऊ पे जे ठंड के दिना में, खुल्ले में लोहा औरई जुड़ान लगत आए। ने तो मोसे लेटत बन रओ हतो औ ने बैठत बन रओ हतो। कैसऊं ने कैसऊं रात कटी। भुनसारे होतई साथ समस्या जे आई के, अब जो दिसामैदान के लाने निकरत हों सो कऊं रामचरण को नंबर ने आ जाए, औ अपने रामचरण भैया तबलों लौटे ने हते।’’ भैयाजी बोले।
‘‘जे तो वाकई बड़ी वारी समस्या आ गई रई।’’ मैंने भैयाजी से कही। औ कहत साथ मोय हंसी सोई आ गई।
‘‘तुमें हंसी-ठींठीं सूझ रई! तुम उते होतीं, सो पता परती।’’ भैयाजी खिझात भए बोले। फेर आगे बतान लगे, ‘‘बो तो कओ के कछू देरी में रामचरण आ गओ। सो हम दिसामैदान खों दौड़े। जबलों हम कुल्ला-मुखारी कर के लौटे, रामचरण ने चाय बना लई हती। बो सयानों आती बेरा अपने संगे दूध, चायपत्ती लेत आओ रओ। ने तो उते होटल की कट से बी कट चाय पी के सो हमाओ कछू न होतो। रामधई! हम दोई जने ने उते लुटिया भर-भर के चाय पी। रामचरण की घरवारी ने निमकी, शकरपारे रख दए रए, सो बे खाए। मनो फेर के दुफारी होन लगी पर रामचरण को नंबर ने आओ। हमने रामचरण से कही के भैया, जे दो बोरी यूरिया के लाने काय अपने दो दिना खराब कर रए? चलो, दूकान से ले लइयो। सो बो कैन लगो के ई समै पे कहूं ने मिलहे। इतई से लेने परहे। जो तुम थक गए हो सो घरे लौट जाओ! बाकी हम तो यूरिया ले केई लौटबी। हमने ऊसे कही के ऐसे कैसे हो सकत आए? संगे आएं हैं सो संगे लौटबी।’’  
‘‘औ का! बिलकुल सही कई आपने!’’ मैंने भैयाजी से कही।
‘‘अरे का बिन्ना! कैने को सो कै दई, मनो रात में जो ठंड लगी रई, ऊसे हाथ-गोड़े पिरा रए हते। घर में अच्छी-साजी गद्दा-पल्ली पे सोअत आएं, पर उते तो पथरा घांईं लोहा की ट्रली हती। मोरो तो जी सो घबड़ान लगो रओ, मनो रामचरण खों छोड़ के आओ बी नईं जा रओ हतो।’’ भैयाजी बोले।
‘‘फेर कबे मिलो यूरिया?’’ मैंने भैयाजी कही।
‘‘आज भुनसारे नंबर लगो। हमने दोई बोरी लादी ट्राली में औ उते से ऐसे भागे, मानो कोनऊं भूत दिखा गओ होय। ऊने पैले मोरे घर मोय पोंचाओ, फेर बो अपने घरे चलो गओ। तुमाई भौजी को हमने आपबीती सुनाई सो बे हमाए अंसुवा पोंछन के बजाए बिगर परीं के कोन ने कई रई जाबे की। अब कहूं तुमाई तबीयत बिगर गई सो का हुइए! अब तुम तो जानते हो बिन्ना के जब तुमाई भौजी बिगरत आएं सो उते से भागबे मेंई भलाई रैत आए। तभई तो हम तुमाए इते भाग आए। तुमाई भौजी ने सो हमें चाय की बी नईं पूछी।’’ भैयाजी बोले।
 ‘‘खैर, भौजी की छोड़ो आप, उनको कैबो बी सही आए। आपको खेत में, खुल्ला में सोबे की आदत सो आए नईं। कहूं कछू ज्यादा ठंड-मंड लग जाती, सो सल्ल बींध जाती। मनो भैयाजी, आपने सही कई, के अपने किसान भैया हरें भौतई जिगरा वारे आएं।’’ मैंने भैयाजी से कही।
बाकी मोए सोई बतकाव करनी हती सो कर लई। मनों जे यूरिया-मूरिया बांटबे को कोनऊं और सही तरीका होने चाइए। अच्छो रै के खुल्ला बाजार में सब्सिडी दे के कम दोम पे बिकन देंवें। जोन खों जब लगे सो वो तभई उठा ले। बाकी ईकी बारीकी सो अपने किसान भैया जानत हुइएं, मोरे सो न खेत आएं औ न मैंने कभऊं खेती करी। बाकी जे है के दूसरन की पीड़ा में मोरो जी दुखत आए। तो अब अगले हफ्ता करबी बतकाव, तब लों जुगाली करो जेई की। सो, सबई जनन खों शरद बिन्ना की राम-राम!
 -----------------------------   
(24.11.2022)
#बतकावबिन्नाकी #डॉसुश्रीशरदसिंह  #बुंदेली #बुंदेलखंड #बिन्ना #भैयाजी #बतकाव #BatkavBinnaKi #DrMissSharadSingh #Bundeli
#Bundelkhand #Binna #Bhaiyaji #batkav  #बुंदेलीव्यंग्य

Wednesday, November 23, 2022

चर्चा प्लस | कोप 27: हो गया यवनिका पतन, अब आगे क्या? | डॉ. (सुश्री) शरद सिंह | सागर दिनकर

चर्चा प्लस  
कोप 27: हो गया यवनिका पतन, अब आगे क्या?
- डाॅ (सुश्री) शरद सिंह                                                                                      
       कुल मिलाकर, कोप 27 का समापन खट्टे-मीठे परिणामों के साथ हुआ। जिसमें भारत की ओर से रखे गए प्रावधानों को एकबार फिर अनदेखा कर दिया गया। जबकि भारत एक ऐसा देश है जो पूरी तरह से तीसरी दुनिया के देशों का प्रतिनिधित्व करता है, इसलिए भारत के प्रस्ताव की अनदेखी इस सम्मेलन के दूरगामी परिणामों पर सवालिया निशान लगाती है। कुछ बड़े और विकसित देश विकासशील देशों के भाग्य का फैसला खुद नहीं कर सकते। इस सम्मेलन ने अपने पीछे कई ऐसे सवाल छोड़े हैं जिनका जवाब तलाशने की जरूरत है। जैसे तीसरी दुनिया की जनता की राय को शामिल किए बिना सही परिणाम कैसे प्राप्त किया जा सकता है? ऐसी योजना बनानी होगी कि इस तरह के प्रयास महज राजनीतिक नाटक न बन जाएं।
      सम्मेलन पर सम्मेलन, सम्मेलन पर सम्मेलन ...बतर्ज़ सनी देयोल का डायलाॅग ‘‘तारीख़ पे तारीख़, तारीख़ पे तारीख़’’। बस, अंतर इतना है कि उस अदालत में सिर्फ़ तारीख़ें आगे खिसक रही थीं पेशियों की और कोई निर्णय नहीं हो रहा था, मगर यहा हर सम्मेलन के बाद कई निर्णय लिए जाते हैं लेकिन अफ़सोस कि वे निर्णय पूरी तरह से अपने परिणामों तक नहीं पहुंच पाते हैं। कहीं रसूख वाले देशों का राजनीतिक दबाव तो कहीं  सीधे पूंजीपतियों का दबाव। विरोधों और आंदोलनों को बदनाम करके दबाया जाना तो हमेशा से एक सस्ती और घटिया चाल रही ही है। यद्यपि आज मीडिया कई दृश्य ऐसे भी दिखा देता है जो प्रकृति संरक्षण के ड्रामें को बेनकाब कर देता है। जैसे वृक्षारोपण के दौरान समारोहपूर्वक वृक्षारोपण किया जाता है। बाद में उन वृक्षों की दशा-दिशा पर कोई अखबार या टीवी चैनल फॅालोअप दिखा देता है तो पता चलता है कि वे सारी पौध पानी के अभाव में सूख कर मर चुकी है। यानी अगली बार वृक्षारोपण के लिए फिर ज़मीन उपलब्ध। बहरहाल, अभी 2022 के नवंबर माह में 6 से 18 नवंबर तक मिश्र (इजिप्ट) के शरम-अल-शेख में सीओपी-27 का सम्मेलन सम्पन्न हुआ। सम्मेलन के समापन के एक दिन पहले 17 नवंबर, 2022 की सुबह एक ‘‘नॉन पेपर’’ जारी किया गया। इसमें विभिन्न देशों से प्राप्त सूचनाओं का संकलन किया गया था, जिससे इस सम्मेलन में उठाए गए सभी मुद्दों पर प्रकाश डाला जा सके और निर्णय लिए जा सके। इस तरह ‘‘नॉन पेपर’’ जारी करना एक परम्परा है।  
इस ‘‘नॉन पेपर’’ ने पूरे सम्मेलन में मुद्दों और आम सहमति को संक्षेप में प्रस्तुत किया। साथ ही कार्यवाही कैसे होनी चाहिए, इसके लिए भी गाइडलाइन रखी गई थी। यह उल्लेखनीय है कि ग्लासगो में केाप-26 के निर्णयों, जिसे ग्लासगो क्लाइमेट पैक्ट (जीसीपी) के रूप में जाना जाता है, ने ‘‘जीवाश्म ईंधन’’ शब्द का उल्लेख करने वाला पहला कोप निर्णय होने का इतिहास बनाया था। जीवाश्म ईंधन का अर्थ है कोयला, तेल, प्राकृतिक गैस आदि। ग्लासगो में जारी जीसीपी आठ पेज लंबा था। वहीं, मिस्र में जारी यह दस्तावेज 20 पेज का था। दस्तावेज ने ऊर्जा संकट, जलवायु परिवर्तन पर अंतर सरकारी पैनल (आईपीसीसी) के निष्कर्षों और बहुपक्षीय विकास बैंकों (एमडीबी) की रिपोर्टों पर व्यापक विचार सहेजेे। जैसे कि इसमें यूएनएफसीसीसी के दायरे के भीतर और बाहर कई विषयों को शामिल करने वाले सुझावों की एक लंबी, व्यापक सूची शामिल थी। मसौदे में तेजी से बदलाव के साथ ऊर्जा प्रणालियों को अधिक सुरक्षित, विश्वसनीय और लचीला बनाने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला गया। यह ऊर्जा सुरक्षा के बारे में था, जो कि अधिकांश देशों के लिए एक प्रमुख प्राथमिकता भी है। कागज ने अक्षय ऊर्जा की ओर झुकाव और झुकाव के साथ कोयला आधारित ऊर्जा को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने का आह्वान किया। हालांकि, यह जीवाश्म ईंधन सब्सिडी पर अधिक जोरदार तरीके से बात नहीं रखी गई।
उल्लेखनीय है कि ग्लासगो क्लाइमेट पैक्ट (जीसीपी) ने अक्षम जीवाश्म ईंधन सब्सिडी को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने का आह्वान किया था। जबकि कोप 27 में जारी इस मसौदे में ‘‘अक्षम जीवाश्म ईंधन सब्सिडी के चरणबद्ध और युक्तिकरण’’ का आह्वान किया गया। दुर्भाग्य से, मसौदे में सभी जीवाश्म ईंधन को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने के भारत के प्रस्ताव का भी उल्लेख नहीं किया गया। वास्तव में, मसौदे में जीवाश्म ईंधन का एकमात्र संदर्भ जीवाश्म ईंधन सब्सिडी को युक्तिसंगत बनाने के संदर्भ में है। यह एक ऐसा तथ्य है जो इस नॉन पेपर को कमजोर बनाता है। क्योंकि वैज्ञानिकों की राय में, 1.5 डिग्री सेल्सियस के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए जीवाश्म ईंधन को खत्म करना बहुत महत्वपूर्ण है। एचओडी बैठक में, जी-77 और चीन के दलों ने तर्क दिया कि मसौदा जलवायु वार्ता की यात्रा की दिशा को स्पष्ट नहीं करता है। वहीं, बोलीविया ने कहा कि इस मसौदे के जरिए पेरिस समझौते की दोबारा व्याख्या नहीं की जानी चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि विकसित देशों के वित्तीय दायित्वों को कम नहीं किया जा सकता है।
कोप 27 के कुछ अच्छे और कुछ कमजोर पक्ष थे। नुकसान और मुआवजे को संबोधित करने के लिए वित्त पोषण या एक नया फंड भारत सहित गरीब और विकासशील देशों की लंबे समय से लंबित मांग रही है-उदाहरण के लिए, बाढ़ से विस्थापित लोगों को स्थानांतरित करने के लिए आवश्यक धन-लेकिन अमीर देशों ने एक दशक से अधिक समय तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। लम्बे समय से इस पर चर्चा करने से परहेज किया जाता रहा है। विशेषज्ञों ने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि अधिकांश विकासशील देशों और अमेरिका और यूरोपीय संघ सहित कुछ विकसित देशों के समर्थन के बावजूद, सभी जीवाश्म ईंधन को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने के आह्वान को मसौदा पाठ में जगह नहीं मिली। कोप 27 के व्यापक निर्णय पर मसौदा पाठ हानि और क्षति को संबोधित करने के लिए वित्त पोषण तंत्र पर एक ‘‘प्लेसहोल्डर’’ डालता है, जिसका अर्थ है कि पार्टियों ने अभी तक इस मामले पर आम सहमति तक नहीं पहुंच पाई है। यह पुष्टि करता है कि वैश्विक तापमान वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने के लिए तीव्र और गंभीर उत्सर्जन कटौती की आवश्यकता है। इसमें 2010 के स्तर की तुलना में 2030 तक वैश्विक कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन को 45 प्रतिशत तक कम करना और सदी के मध्य के आसपास शुद्ध शून्य उत्सर्जन तक पहुंचना शामिल है।
कोप 27 के अंतिम दिन, मिस्र में समझौते का पहला औपचारिक मसौदा 18 नवंबर 2022 को प्रकाशित हुआ, जिसमें एक बार फिर भारत के सभी जीवाश्म ईंधन को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने और क्षति और मुआवजे के वित्तपोषण पर कोई प्रावधान शामिल नहीं किया गया। जबकि भारत एक ऐसा देश है जो पूरी तरह से तीसरी दुनिया के देशों का प्रतिनिधित्व करता है, इसलिए भारत के प्रस्ताव की अनदेखी इस सम्मेलन के दूरगामी परिणामों पर सवालिया निशान लगाती है। कुछ बड़े और विकसित देश विकासशील देशों के भाग्य का फैसला खुद नहीं कर सकते।
जलवायु परिवर्तन का पूरा परिदृश्य हमारे सामने है जिसे हल्के में नहीं लिया जा सकता। पृथ्वी की सतह का वैश्विक औसत तापमान समग्र ऊर्जा असंतुलन के परिणामों में से केवल एक है। अतिरिक्त ऊर्जा मौसम प्रणालियों को प्रभावित करती है और भारी वर्षा, बाढ़, चक्रवाती तूफान, सूखा, गर्मी की लहरों और जंगल की आग जैसी कई चरम मौसम की घटनाओं की संख्या और तीव्रता को सीधे बढ़ाती है। मौसम की घटनाएं ऊर्जा को स्थानांतरित करती हैं और जलवायु प्रणाली को अंतरिक्ष में ऊर्जा के विकिरण से रोकती हैं। इससे वैश्विक तापमान में भी वृद्धि होती है। इस अध्ययन से यह भी पता चला है कि संतुलन से 93 प्रतिशत अतिरिक्त गर्मी पृथ्वी के महासागरों में जाती है, जिससे समुद्र के जल स्तर का तापमान बढ़ जाता है। यही कारण है कि वर्ष 2021 अब तक के सबसे गर्म महासागरों वाला वर्ष था। पृथ्वी की सतह का वैश्विक औसत तापमान समग्र ऊर्जा असंतुलन के परिणामों में से केवल एक है। अतिरिक्त ऊर्जा मौसम प्रणालियों को प्रभावित करती है और भारी वर्षा, बाढ़, चक्रवाती तूफान, सूखा, गर्मी की लहरों और जंगल की आग जैसी कई चरम मौसम की घटनाओं की संख्या और तीव्रता को सीधे बढ़ाती है।
कोप-27 के समापन के साथ ही जलवायु परिवर्तन के चलते हो रहे नुकसान व क्षति के लिए कोष बनाने सहित लगभग सभी एजेंडों पर सहमति जता दी गई। इसे यूनाइटेड नेशंस फ्रेमवर्क कन्वेंशन ऑन क्लाइमेट चेंज (यूएनएफसीसीसी) के पक्षकारों के 27वें सम्मेलन ( कोप-27) की एक बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है। कोप 26 की तुलना में कोप 27 ने नवीकरणीय ऊर्जा के संबंध में अधिक कड़ी भाषा का इस्तेमाल किया और ऊर्जा माध्यमों में बदलाव की बात करते हुए न्यायोचित बदलाव के सिद्धांतों को शामिल किया गया। इस योजना ने वैश्विक औसत तापमान में वृद्धि को पूर्व-औद्योगिक स्तर से करीब दो डिग्री सेल्सियस नीचे तक सीमित रखने के पेरिस समझौते के लक्ष्य की पुष्टि की। इसमें कहा गया कि यह ‘जलवायु परिवर्तन के जोखिम और प्रभावों को काफी कम करेगा।’
हानि एवं क्षतिपूर्ति के समाधान के लिए वित्तपोषण या एक नया कोष बनाना भारत सहित गरीब और विकासशील देशों की लंबे समय से लंबित मांग रही है, लेकिन अमीर देशों ने एक दशक से अधिक समय से इस पर चर्चा से परहेज किया है। विकसित देशों, खासकर अमेरिका ने इस डर से इस नए कोष का विरोध किया है कि ऐसा करना जलवायु परिवर्तन के चलते हुए भारी नुकसान के लिए उन्हें कानूनी रूप से जवाबदेह बनाएगा। ‘हानि और क्षति कोष’ का प्रस्ताव जी 77 और चीन (भारत इस समूह का हिस्सा है), अल्प विकसित देशों और छोटे द्वीप राष्ट्रों ने रखा था। अल्प विकसित देशों ने कहा था कि वे नुकसान और क्षति कोष पर समझौते के बिना कोप 27 से नहीं जाएंगे।
उल्लेखनीय है कि जलवायु परिवर्तन से संबंधित आपदाओं का सामना कर रहे गरीब देश अमीर देशों से जलवायु अनुकूलन के लिए धन देने की मांग कर रहे हैं। गरीब देशों का मानना है कि अमीर देश जो कार्बन उत्सर्जन कर रहे हैं, उसके चलते मौसम संबंधी हालात बदतर हुए हैं, इसलिए उन्हें मुआवजा दिया जाना चाहिए। संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन शिखर सम्मेलन के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, ‘‘शर्म-अल-शेख में आज कोप 27 में इतिहास रचा गया। पक्षकार उन विकासशील देशों की सहायता के लिए बहुप्रतीक्षित ‘हानि और क्षति’ कोष की स्थापना पर सहमत हुए जिन पर जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों का विशेष रूप से असर पड़ा है।’
क्या महज क्षतिपूर्ति जलवायु संकट से हम मनुष्यों को बचा सकती है? जलवायु परिवर्तन इस सदी की प्रमुख समस्या है। यह संकट मानवता के अस्तित्व के लिए चुनौती बनता जा रहा है। इस साल दुनिया के कई देशों को प्रतिकूल मौसमी परिघटनाओं की मार झेलनी पड़ी। पाकिस्तान में बाढ़ से 3.3 करोड़ आबादी प्रभावित हुई। डेढ़ हजार से अधिक लोगों की मौत हो गई। 44 लाख एकड़ भूमि पर लगी फसल चैपट हो गई। यूरोप के कई देशों में गर्मी के पुराने रिकार्ड टूट गए। गर्मी के कारण वहां जंगलों में लगने वाली आग ने जैव विविधता को जो क्षति पहुंचाई, उसकी भरपाई शायद ही हो पाएगी। भारत में भी मानसून की देरी के कारण पहले तो समय पर रोपाई नहीं हो सकी और बाद में इतनी बारिश हुई कि कई हिस्सों में फसलें चैपट हो गईं। भारत में भूकंप की आवृतियां और तीव्रता निरंतर बढ़ रही है, जिसे अनदेखा नहीं किया जा सकता है। मुआवजा देकर पूंजीवादी देश ग़रीब देशों को चुप रहने को मना तो सकते हैं लेकिन उस पृथ्वी की दशा को कैसे सुधारेंगे जिस पर वे स्वयं भी मौजूद हैं? अतः इस बात को ऐतिहासिक जीत (जैसा कि पाकिस्तान की ओर से कहा गया) नहीं माना जा सकता है। ऐतिहासिक जीत तो तब होगी जब विकसित देश अपनी जिम्मेदारियों को स्वीकार कर के जलवायु परिवर्तन रोकने के सच्चे प्रयास करेंगे।आवश्यकता इस बात की है कि जलवायु परिवर्तन के असर को कम करने और नए हालात के हिसाब से ढालने के उपायों पर वृक्षारोपण, जंगलों की सीमा बढ़ाने और काटे गए जंगलों को फिर से लगाने पर प्रत्येक सरकार को ध्यान देना होगा, जिससे कि जंगलों में कार्बन के भंडारण के संरक्षण के साथ-साथ उसे बढ़ाया भी जा सके। आमजन को जागरूक करना होगा जलवायु परिवर्तन के प्रति ताकि वह अपने छोटे-छोटे प्रयासों से स्थिति की भयावहता को कम कर सके।
कुल मिलाकर, कोप 27 का समापन खट्टे-मीठे परिणामों के साथ हुआ। सम्मेलन का यवनिका पतन हो गया। यवनिका पतन अर्थात् नाट्यमंच पर नाटक के समापन पर पर्दे का गिरना। यह सम्मेलन अपने पीछे कई ऐसे सवाल छोड़ गया है जिनका जवाब तलाशना जरूरी है। जैसे तीसरी दुनिया की जनता की राय को शामिल किए बिना सही परिणाम कैसे प्राप्त किया जा सकता है? ऐसी योजना बनानी होगी कि इस तरह के प्रयास महज राजनीतिक नाटक बन कर न रह जाएं। हम एक भयावह जलवायु परिवर्तन परिदृश्य का सामना कर रहे हैं जिसे हल्के में नहीं लिया जा सकता है।    
  ----------------------------
#DrMissSharadSingh #चर्चाप्लस  #सागरदिनकर #डॉसुश्रीशरदसिंह 
#कोप27 #कॉप27 #COP27 #Egypt #मिश्र #शरमअलशेख ##shermaishA
#unitednations

Tuesday, November 22, 2022

पुस्तक समीक्षा | एक महत्वपूर्ण आलेख संकलन | समीक्षक डाॅ. (सुश्री) शरद सिंह | आचरण

प्रस्तुत है आज 22.11.2022 को  #आचरण में प्रकाशित मेरे द्वारा की गई लेखक मुकेश तिवारी के लेख संग्रह "श्री महेन्द्र फुसकेले का साहित्य संसार" की समीक्षा... आभार दैनिक "आचरण" 🙏
---------------------------------------


पुस्तक समीक्षा
एक महत्वपूर्ण आलेख संकलन
समीक्षक - डाॅ. (सुश्री) शरद सिंह
-------------------------------
लेख संग्रह  - श्री महेन्द्र फुसकेले का साहित्य संसार
संकलनकर्ता  - मुकेश तिवारी
प्रकाशक     - प्रगतिशील लेखक संघ सागर इकाई
मूल्य        - अंकित नहीं।
--------------------------------
आज की समीक्ष्य कृति है -‘‘श्री महेन्द्र फुसकेले का साहित्य संसार’’। स्व. महेन्द्र फुसकेले सागर शहर के वरिष्ठ साहित्यकार तो थे ही साथ ही वे साम्यवादी विचारों के समर्थक एवं प्रगतिशील लेखक संघ की सागर इकाई के दीर्घकाल तक अध्यक्ष भी रहे। यूं भी सागर संभाग में बीड़ी उद्योग का विस्तार रहा है और अनेक बीड़ी श्रमिक इसके अंतर्गत अपना जीवनयापन करते आए हैं। उनकी समस्याओं के प्रति महेन्द्र फुसकेले जी ने जहां एक ओर एक वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में आवाज़ उठाई वहीं अपने साहित्य सृजन के द्वारा भी उनके पक्ष को सदा पाठकों के  सामने रखा। वे एक कर्मठ और जिजीविषायुक्त जीवट इंसान थे। उन्हें परिस्थितियों से हार मानना पसंद नहीं था। चूंकि मेरा भी उनसे कई वर्षों का परिचय रहा अतः मुझे उनके विचारों को जानने-समझने का पर्याप्त अवसर मिला। महेन्द्र फुसकेले जी के साहित्यिक व्यक्तित्व को सहेजने तथा उनकी प्रथम पुण्य स्मरण समारोह के अवसर पर उसे लोकार्पित करने की त्वरित योजना बना कर लेखों को संकलित कर के एक संक्षिप्त किन्तु महत्वपूर्ण कृति तैयार कर के कवि एवं लेखक मुकेश तिवारी ने निश्चित रूप से प्रशंसनीय कार्य किया।
इस संकलन के बारे में मुकेश तिवारी ने अपनी भूमिका में लिखा है-‘‘बहुत यादें जुड़ी हैं, दादा फुसकेले जी से। सारी यादें और दादा का चेहरा बार-बार सामने आता है। लगता है, वह हमारे आसपास ही हैं। जीवन और मरण के बीच सब कुछ समाया है। मान-अपमान, ऊंच-नीच, मित्र-शत्रु सब ही तो केवल इस जीवन और मृत्यु के बीच ही हैं। मृत्यु के बाद केवल संस्मरण ही रह जाते हैं, और यह सारा जगत वहीं का वहीं रहता है। इस देह के रहते कुछ ऐसा हो जाता है जो कथाएं बनकर युगों-युगों तक हमारी स्मृति के किसी न किसी कोने में अपना बसेरा बनाए रहती हैं। यही विदेह कथाएं (संस्मरण) जीवित रखती हैं, हमारे विचारों और मनोभावों को। दादा फुसकेले जी  जीवन की अभिव्यक्ति अपने साहित्य- उपन्यास, कहानी, निबंध और कविताओं में पिरो कर रख गए हैं। हम उन्हें (दादा फुसकेले जी) को इस साहित्य में जीवित पाते हैं। उनकी प्रथम पुण्यतिथि पर उनके साहित्य की चर्चा के साथ पुनः पुनः दादा फुसकेले जी के विचारों को हम साझा करते हुए सादर श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।’’
संकलन के प्रकाशन प्रक्रिया के बारे में मुकेश तिवारी ने लिखा है कि-‘‘इस संकलन के लिए श्री महेंद्र जी के पुत्र पेट्रिस फुसकेले एवं पुत्रवधू डाॅ नम्रता फुसकेले का हार्दिक आभार व्यक्त करता हूं, इनके अति महत्वपूर्ण योगदान से प्रकाशित हो सका।’’ वे आगे लिखते हैं कि -‘‘अत्यंत अल्प समय में इस संकलन को मुद्रित करने के लिए मैं निमिष आर्ट एवं पब्लिकेशन सागर का आभारी हूं, जिन्होंने मात्र 3 दिन में इस संकलन को मुद्रित कर दिया।’’
जो संकलन पुस्तक मात्र तीन दिन में प्रकाशित हुई हो उसमें ढेर सारी सामग्री होना संभव नहीं हो सकता है, किन्तु प्रतिनिधि सामग्री इस संकलन में मौजूद है, जो साहित्यकार महेन्द्र फुसकेले के कृतित्व और व्यक्तित्व से परिचित कराने में सक्षम है। इस लेख संकलन में कुल सात लेख संकलित हैं। प्रथम लेख है लेखक टीकाराम त्रिपाठी का जिसका शीर्षक है-‘‘स्त्री: माक्र्सवादी सौंदर्यशास्त्र और श्री महेन्द्र फुसकेले’’। दूसरा लेख है पी.आर. मलैया का-‘‘स्मृतिशेष महेन्द्र फुसकेले एक सशक्त रचनाकार’’। तीसरा लेख है-‘‘कच्ची ईंट बाबुल देरी न दइयो’ और उपन्यासकार महेन्द्र फुसकेले का स्त्रीविमर्श’’। यह लेख डाॅ. (सुश्री) शरद सिंह यानी मेरा लिखा हुआ है। चतुर्थ लेख है कैलाश तिवारी ‘विकल’ का, जिसका शीर्षक है-‘‘वैचारिक संर्घष का हृदय दर्पण: महेन्द्र फुसकेले’’। पंचम लेख है ‘‘सहज श्रद्धा के पात्र: स्मृतिशेष श्री महेन्द्र फुसकेले’’। इसके लेखक हैं डाॅ. सतीश पाण्डेय। छठा लेख है डाॅ. नम्रता फुसकेले का ‘‘घूम री पृथ्वी घूम घूम’’। अंतिम और सातवां लघु लेख है डाॅ. नलिन जैन ‘नलिन’ का ‘‘अनूठे व्यक्तित्व के धनी: श्री महेन्द्र फुसकेले’’।
इस लेख संकलन का प्रथम लेख ‘‘स्त्री: माक्र्सवादी सौंदर्यशास्त्र और श्री महेन्द्र फुसकेले’’ में लेखक टीकाराम त्रिपाठी ने महेन्द्र फुसकेले जी के उपन्यासों के आधार पर उनके स्त्री चिंतन को सामने रखा है। समग्रतापूर्ण अपने इस लम्बे लेख में लेखक त्रिपाठी ने माक्र्सवादी सौंदर्यशास्त्र की भी विवेचना की है। उन्होंने लिखा है-‘‘उनके उपन्यासों पर चर्चा करने के क्रम में सर्वप्रथम मैं इस तथ्य की ओर आपका ध्यान आकृष्ट कराना चाहता हूं कि उनके सभी उपन्यासों के केंद्र में स्त्री पीड़ा स्त्री शोषण स्त्री प्रवचना आदि के मिस स्त्री विमर्श ही है। साथ ही उनके शीर्षक नामकरण मातृभूमि बुंदेलखंड की मातृभाषा बुंदेली के स्वांग गीतों से अनुप्राणित है।’’ महेन्द्र फुसकेले  के उपन्यास ‘‘मोए ले चल बलम रेता में’’, ‘‘मैं तो ऊंसई अतर में भींजी’’, ‘‘तेंदू के पत्ता में देवता’’, ‘‘कच्ची ईंट बाबुल देरी न दइयो’’तथा ‘‘फूलवंती’’ पर अलग-अलग टिप्पणी करते हुए लेखक ने उपन्यास के कथानकों एवं मुख्य पात्रों का विस्तृत परिचय दिया है। इससे महेन्द्र फुसकेले जी के औपन्यासिक कौशल एवं कथानकों की विशिष्टता का ज्ञान हो जाता है।
‘‘स्मृतिशेष महेन्द्र फुसकेले एक सशक्त रचनाकार’’ लेख में पी.आर. मलैया ने महेन्द्र फुसकेले की कहानियों पर चर्चा की है। चूंकि यह लेख हस्तलिखित रूप में प्रकाशित किया गया है अतः यह पढ़ने में धैर्य की मांग करता है। संभवतः समयाभाव के कारण इस लेख को टंकित न करा कर हस्तलिखित में प्रकाशित करना विवशता रही होगी। फिर भी यह लेख अपनी विषय-महत्ता में किसी भी तरह से कम नहीं है। लेख में महेन्द्र फुसकेले जी के दोनों कहानी संग्रहों पर अपने विचार रखते हुए लिखा है कि -‘‘ दोनों संग्रह की कहानियों में जो तथ्य उभर कर सामने आए हैं उनमें व्यक्तिगत, सामाजिक, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय समस्याओं को श्रमजीवी अवधारणा के दृष्टिकोण से समझने की चेष्टा दृष्टिगोचर है। सभी कहानियों में लोक जागृति का तथ्य मुखर हैं। लेखक  की सहानुभूति सर्वत्र दबे-कुचले, साधनहीन, निरुपाय स्त्री पुरुषों के प्रति है, जिन्हें वह जागरूक समझसंपन्न बनाने अपनी लेखनी के माध्यम से प्रयासरत रहा।’’
‘‘कच्ची ईंट बाबुल देरी न दइयो और उपन्यासकार महेन्द्र फुसकेले का स्त्रीविमर्श’’ लेख में महेन्द्र फुसकेले जी के एक उपन्यास ‘‘कच्ची ईंट बाबुल देरी न दइयो’’ के आधार पर उनके स्त्रीविमर्श का आकलन करते हुए लेखिका डाॅ. (सुश्री) शरद सिंह ने लिखा है कि ‘‘स्व. महेन्द्र फुसकेले एक ऐसे साहित्यकार थे जो मानवीय मूल्यों को भली-भांति समझते थे। साथ ही वे मानवीय मूल्यों को समाज में स्थापित होते हुए देखना चाहते थे। वे जीवन के प्रगतिशील स्वरूप पर विश्वास रखते थे। उनका मानना था कि जो परम्पराएं दूषित हो चुकी हैं, उन्हें समाप्त हो जाना चाहिए। सिर्फ वे ही परम्पराएं रहें जिनका सरोकार मानवहित से है। उनका ऐसा सोचना उचित था क्योंकि मानवीय जीवन को मूल्यवान बनाने की क्षमता रखने वाले गुणों को मानव मूल्य कहा जाता है। महेन्द्र फुसकेले जी मानते थे कि जब जीवन मूल्य और मुद्रा मूल्य परस्पर पर्याय बनने लगते हैं, वहीं समाज का स्वरूप बिगड़ने लगता है और इससे सबसे अधिक प्रभावित होती है इस पुरुष प्रधान समाज में दोयम दर्जे पर रखी जाने वाली स्त्री। महेन्द्र फुसकेले जी प्रखर स्त्रीवादी थे। वे स्त्रीविमर्श के हिमायती थे। वे मानते थे कि जब तक समाज के सबसे निचले तबके की खांटी स्त्रियों के दुख-कष्ट पर चिंतन या विमर्श नहीं किया जाएगा तब तक साहित्य की समाज-सुधारक भूमिका अधूरी रहेगी।’’
लेखक कैलाश तिवारी ‘विकल’ ने अपने लेख ‘‘वैचारिक संर्घष का हृदय दर्पण: महेन्द्र फुसकेले’’ में लिखा है कि -‘‘ महेंद्र फुसकेले 1952 से कहानी के क्षेत्र में सक्रिय रहे। उन्होंने अखबारों में स्तंभ भी लिखे, निबंध भी लिखें और अंत उपन्यास भी लिखे, कविता भी लिखी। ‘‘प्रकरांतर’’ संकलन में ‘‘बढ़ता कारवां’’ इंदौर, ‘‘दैनिक भास्कर’’ एवं ‘‘आचरण’’ में लिखें स्तंभ लेखन शामिल हैं। यह जिंदगी की समस्याओं, पड़ताल और भ्रमजाल को साफ करने उपकरण का काम करते हैं। छोटे-बड़े निबंधों की खासियत यह है कि जिन विषयों सें कठमुल्ले मार्क्सवादी दूर भागते हैं, जिन्होंने भारतीय दर्शन नहीं पढ़ा, उन विषयों की सांस्कृतिक खूबियों को उन्होंने रेखांकित किया है और रूढ़ियों को पीछे की तरफ धकेला है। जैसे-‘‘रक्षाबंधन’’, ‘‘श्री गणेशाय नमः’’ या ‘‘आदि शंकराचार्य: भारतीय दर्शन का तेजस्वी पुंज’’, ‘‘गीता युग की वाणी’’ या ‘‘भैया दूज विजय पवित्रता का दिन’’।’’ इस तरह लेखक ‘विकल’ के लेख से पता चलता है कि महेन्द्र फुसकेले जी माक्र्सवादी तो थे किन्तु भारतीय संस्कृति के परिपोषक भी थे। उनमें कट्टरवादिता नहीं थी।
  ‘‘सहज श्रद्धा के पात्र: स्मृतिशेष श्री महेन्द्र फुसकेले’’ लेख में लेखक डाॅ. सतीश पाण्डेय ने महेन्द्र फुसकेले जी के संबंध में लिखा है कि वे ‘‘प्रगतिशील साहित्य के सशक्त हस्ताक्षर और श्रमिक आंदोलन के अग्रणी सिपाही थे। आपका नाम जेहन में आते ही मानवता के उस पुजारी का चेहरा सामने आता है, जिसने अपना पूरा जीवन मजदूरों, कामगारों के पक्ष में सही अर्थों में जिया और अपने कामरेड होने का भाव पूरी संवेदना ईमानदारी के साथ निभाया। समाज में स्त्रियों की पीड़ा और उनके स्थान को लेकर आपके लेख अविस्मरणीय है। आपने अन्याय, शोषण, पाखंड, धार्मिक कुरीतियों, कट्टरता, सांप्रदायिक ताकतों का आजीवन कड़ा विरोध किया।’’
डाॅ. नम्रता फुसकेले ने महेन्द्र फुसकेले जी द्वारा बच्चों के लिए लिखे गई कृति ‘‘घूम री पृथ्वी घूम घूम’’ को केन्द्र में रख कर लेख लिखा है जिससे स्व. फुसकेले जी के बाल साहित्य का भी परिचय मिलता है। डाॅ. नम्रता फुसकेले लिखती हैं कि- ‘‘कभी न कभी कोई बड़ा साहित्यकार अपने जीवन में बाल साहित्य का सृजन करता है। इसी के वशीभूत होकर श्री महेंद्र फुसकेले के लिए नहीं बच्चों के लिए ‘‘घूम रही पृथ्वी घूम घूम’’ का सृजन 2015 में किया।’’ वे आगे लिखती हैं कि ‘‘स्मृति शेष श्री महेंद्र फुसकेलेे का बाल साहित्य स्वच्छ पर्यावरण अंधविश्वास समाज में व्याप्त छुआछूत हिंदुस्तान का अर्थ गरीबी का कारण बेटी के पक्षपात को उजागर करता हुआ तथा अंत में मां की महिमा का बखान करता है। संदेश देती हुई कहानियों के माध्यम से खूबसूरत गुलदस्ता बच्चों को भेज किया है। बच्चों के साथ ही साथ बड़ों के लिए भी पठनीय है।
अंतिम और सातवें लेख के रूप में डाॅ. नलिन जैन ‘नलिन’ का लेख ‘‘अनूठे व्यक्तित्व के धनी: श्री महेन्द्र फुसकेले’’ है जिसमें उन्होंने स्व. फुसकेले जी से जुड़ा हुआ अपना एक संस्मरण साझा किया है।
मुकेश तिवारी द्वारा संकलित लेखों की यह कृति ‘‘श्री महेन्द्र फुसकेले का साहित्य संसार’’ एक वरिष्ठ माक्सवादी साहित्यकार के साहित्य के विविधपक्षों को जानने और समझने की दृष्टि महत्वपूर्ण पुस्तक है। मुकेश तिवारी जी से इस बात की आशा की जा सकती है कि वे भविष्य में इसमें और लेखों को समाहित करते हुए एक बड़े ग्रंथ के रूप में पाठकों के सामने लाएंगे जिससे पूर्ण समग्रता के साथ महेन्द्र फुसकेले जी का व्यक्तित्व एवं कृतित्व युवा पीढ़ी के सम्मुख रखा जा सकेगा। यद्यपि यह पुस्तक भी अपने आप में पूर्ण अर्थवत्ता लिए हुए है। पठनीय भी है और संग्रहणीय भी। वर्तमान में इसका कोई मूल्य नहीं रखा गया किन्तु ‘‘निःशुल्क’’ भी अंकित नहीं है। संभवतः इसके आगामी संस्करण में मूल्य अंकित किया जाए। फिलहाल इसका निःशुल्क वितरण किया जाना भी साहित्य सेवा की दिशा में उल्लेखनीय है। एक वरिष्ठ दिवंगत साहित्यकार के अवदान पर केन्द्रित इस कृति के लिए मुकेश तिवारी एवं प्रगतिशील लेखक संघ सागर इकाई बधाई के पात्र हैं। 
           ----------------------------              
#पुस्तकसमीक्षा #डॉसुश्रीशरदसिंह #BookReview #आचरण #DrMissSharadSingh  #लेखसंग्रह #महेंद्रफुसकेले #मार्क्सवाद #साहित्यकार #प्रगतिशीललेखकसंघ