Friday, June 10, 2011

राजनीतिक मैदान में महिलाओं का दबदबा

लेख
- डॉ.शरद सिंह

      हर बार का चुनाव कुछ नए प्रतिमान सामने रख जाता है। इस बार के विधान सभा चुनावों ने जता दिया भारतीय राजनीति देश में ही नहीं वरन वैश्विक पटल पर नए प्रतिमान गढ़ रही है। इस बार के विधान सभा चुनावों ने यह भी साबित कर दिया कि राजनीतिक मैदान में महिलाओं का दबदबा बढ़ता जा रहा है। राजनीतिक स्तर पर पहले उत्तर प्रदेश में महिला वर्चस्व था और अब पश्चिम बंगाल तथा तमिलनाडु में में भी महिला वर्चस्व है। राष्ट्रपति महिला हैं, देश की प्रमुख राजनीतिक दल की अध्यक्ष एक महिला हैं। विभिन्न राज्यों में महिलाएं राज्यपाल का पद सुशोभित कर रही हैं। इतना ही नहीं विदेशी मामलों के निपटारे भी एक महिला जिस कुशलता से कर रही है वह भी अपने आप में एक उल्लेखनीय उदाहरण है। हमारी संवैधानिक व्यवस्था में महिलाओं को पूर्ण अधिकार प्राप्त हैं। वे राजनीतिक दल में प्रवेश कर सकती हैं, अपना राजनीतिक दल गठित कर सकती हैं और अपने उसूलों के अनुरूप राजनीतिक मानक तैयार कर सकती हैं।  इसी संवैधानिक अधिकार के कारण भारत का राजनीतिक परिदृश्य महिला शक्ति से परिपूर्ण दिखाई देता है।
         इस परिदृश्य पर महिला आरक्षणविधेयक की जरूरत के बारे में सोचने को मन करता है। क्या सचमुच अब भी इसकी आवश्यकता है? इस प्रश्न के पक्ष और विपक्ष दोनों में मत गिर सकते हैं। ग्रामीण स्तर पर पंचायतों में महिला पंच और सरपंचों का प्रतिशत महिला आरक्षित सीटों के कारण तेजी से बढ़ा। यह सच है कि कतिपय पंचायतों में महिला सरपंच कुर्सी पर कब्जा करती हैं और इसके बाद उनका सारा काम-काज सम्हालते हैं एस.पी. साहबयानी सरपंच पति। लेकिन इसी सिक्के का दूसरा पहलू देखा जाए तो ग्रामीण या पिछड़े इलाके की महिलाओं को अपने अधिकार का पता तो चलने लगा है। उन्हें घर की चार दीवारों से बाहर आने का अवसर तो मिला है। यदि वे आज अपने अधिकारों को जान पा रही हैं तो कल उनका उपयोग करना भी सीख जाएंगी। स्थिति इतनी बुरी भी नहीं है जितनी कि प्रायः दिखाई देती है।  
        देश के सर्वोच्च पद पर महामहिम राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटील हैं। 

देश की सत्ताधारी पार्टी की कमान श्रीमती सोनिया गांधी के हाथों हैं। 

केंद्रशासित दिल्ली की मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित और  उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री सुश्री मायावती  हैं।   
लोकसभा की अध्यक्ष मीराकुमार हैं। 
 ममता बनर्जी के राज्य में चुनाव जीतने से पहले लोकसभा में 45 और राज्यसभा में 10 महिला संसद सदस्य थीं। यह तो मानना ही होगा कि महिलाओं के राजनीतिक नेतृत्व में लोगों का विश्वास बढ़ा है।
         सामाजिक परिवर्तन की प्रक्रिया में महिलाओं के राजनीतिक दखल बढ़ने के साथ-साथ महिलाओं की पहचान के मानक भी बदले हैं। आज औरत की पहचान का जो मानक प्रचलन में है वह स्वतंत्रता के आरंभिक वर्षों में नहीं थे। यहां तक कि बीसवीं सदी के अंतिम दशक में भी उतने समृद्ध नहीं थे जितने की इस इक्कीसवीं सदी के आरम्भिक दशकों में दिखाई दे रहे हैं। फिर भी यह तो याद रखना ही होगा कि महिलाओं का राजनीतिक सफर कहां से और किन कठिनाइयों के साथ शुरू हुआ। 
       महिलाओं के राजनीति में आने के इतिहास को याद रख कर ही वर्तमान का सही आकलन किया जा सकता है।  ऐतिहासिक आधार के बिना महिलाओं की प्रगति का सही आकलन कर पाना कठिन है। महिलाएं राजनीति में सदा दिलचस्पी रखती रही हैं किन्तु पहले वे पर्दे के पीछे रह कर, अत्यंत सीमित दायरे में दखल दे पाती थीं। राजनीति तुम्हारे बस की नहीं है!जैसे जुमलों से उन्हें झिड़क दिया जाता था लेकिन अब महिलाओं की राजनीतिक समझ का पुरुषों को भी लोहा मानना पड़ रहा है। सत्तर के दशक में जब देश में महिलाओं की दशा से जुड़ी पहली विशद् रपट टुवर्डस इक्वा लिटी’ (1975) जारी की गई, तो घर की चारदीवारी के भीतर गहरी हिंसा की शिकार बन रही स्त्रियों के बारे में विशेष जानकारी सामने आई थी। 

अस्सी के दशक में फ्लेविया एग्निस नामक वकील तथा सामाजिक कार्यकर्ता  ने पति द्वारा पत्नी की प्रताड़ना के लोमहर्षक विवरणों को प्रकाश में लाया। उन दिनों फ्लेविया प्रताड़ना के अनुभवों से स्वयं भी गुजर रही थीं। ये वही विवरण थे जो उन आम भारतीय घरों में घटित होते हैं जहां पति अपनी पत्नी को प्रताड़ित मात्रा इसलिए प्रताड़ित करता है कि वह पति है और पत्नी के साथ कोई भी अमानवीयता बरतना उसका अधिकार है। यानी, पत्नी को अकारण मारना-पीटना, उसे अपशब्द कहना, उसकी कमियां गिना-गिना कर मानसिक रूप से तोड़ना आदि। 
        फ्लेविया की आत्मकथा परवाज़अंग्रेजी में थी। सन् 1984 में यह महिला संगठन, ‘वीमेंस सेंटरद्वारा छापी गई, और तब से इसके अनेक संस्करण बाज़ार में आ चुके हैं। तब से अब तक महिलाओं की दशा में आमूलचूल परिवर्तन आया है। महिलाओं के अधिकारों की रक्षा-सुरक्षा के लिए मई महत्वपूर्ण कानून लागू किए जा चुके हैं। महिलाओं की जागरूकता और राजनीति में उनके दबदबे की बढ़त इसी तरह जारी रही तो एक दिन महिला प्रताड़ना जैसे मामले अतीत का किस्सा बन कर रह जाएंगे।  

40 comments:

  1. महिला हर जगह है, चाहे वो कैसा भी क्षेत्र हो,
    अगर फ़िर भी लगता है कि आरक्षण जरुरी है तो पचास प्रतिशत कर दो, लेकिन बाकि के पचास पर अधिकार छोड दो।

    ReplyDelete
  2. आज तो दोनो तरह के दृश्‍य दिखाई देते हैं .. एक ओर सफल , सुखी महिलाएं हैं .. तो दूसरी ओर कष्‍ट भोगती असफल महिलाएं भी .. पर सफल महिलाओं की बढती संख्‍या को देखकर आनेवाले सुखद भविष्‍य का संकेत तो मिलता है .. अच्‍छा लिखा है !!

    ReplyDelete
  3. सुंदर आलेख..... आने वाले समय बदलाव ज्यादा सकारात्मक और प्रभावी हों तो देश की महिलाओं के लिए बेहतर है......

    ReplyDelete
  4. डॉ० शरद सिंह जी,
    बहुत ही सुन्दर लेख....
    आज महिलाएं हर क्षेत्र में आगे...चाहें वो कोई भी क्षेत्र हो !
    इससे गौरवपूर्ण बात क्या होगी कि देश की प्रथम नागरिक एक महिला हैं |
    वर्तमान समय में देश की राजनीति में महिलाएं विशेष योगदान दे रही हैं, तथा पुरुषवर्ग से कहीं बेहतर प्रशासन चला रहीं हैं |
    नारी शक्ति लाजवाब है....

    ReplyDelete
  5. अच्छी पोस्ट है.बात तो तब है जब हर वर्ग की नारी सफल हो.

    ReplyDelete
  6. शत-प्रतिशत सहमत हूँ आपके विचारों से...विधेयक जरुरी है...इस यात्रा को अंजाम तक पहुँचाने के लिए...

    ReplyDelete
  7. ऐसा होना भी क्यों नहीं चाहिये आखिर मोटे तौर पर देश की आधी आबादी भी महिलाओं की ही तो है और शिक्षा का प्रचार-प्रसार इस वर्ग में भी इतनी योग्यता वृद्धि कर ही रहा है ।

    ReplyDelete
  8. अच्छा है, बढ़ेंगी महिलायें, तभी आयेगी सच्ची समानता,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. विचारोत्जेक रचना के लिए आभार।

    ReplyDelete
  10. यदि वे आज अपने अधिकारों को जान पा रही हैं तो कल उनका उपयोग करना भी सीख जाएंगी। स्थिति इतनी बुरी भी नहीं है जितनी कि प्रायः दिखाई देती है।

    आशा की किरण जगाती बात कही है ... यदि महिलाओं को उनके अधिकार और बराबरी का दर्जा मिल जाए तो आरक्षण की ज़रूरत ही नहीं पड़ेगी ... गाँव में आज भी महिलाओं को चुनाव में यही सोच कर खड़ा किया जाता है कि उनके नाम पर उनके पति या घर वाले लोंग राजनीति कर सकें ..

    लेकिन अब चेतना जागृत हो चुकी है .. काफी बदलाव आ रहा है जो एक अच्छा संकेत है

    ReplyDelete
  11. नारी को प्रकृति ने प्रबंधन का गुण प्रदान किया है.इस वरदान के कारण ही परिवार का कुशल-प्रबंधन हर नारी करती है चाहे वह अशिक्षित ही क्यों न हो. युगों से पुरुष प्रधान सामाजिक व्यवस्था के चलते नारी को उपयुक्त अवसर नहीं दिए गए , फिर भी इतिहास की कई वीरांगनाओं ने अपने शक्ति रूप का परिचय हर युग में दिया है.धीरे-धीरे समाज में चेतना आ रही है. अब परिवर्तन स्पष्ट नजर आ रहा है.आने वाला कल और भी बेहतर होगा.

    ReplyDelete
  12. नारी को राजनीतिक चेतना युक्त होना ही होगा समाज के हित में . उनको कोई वैसाखी की तरह प्रयोग ना करें , सतर्क रहना होगा .सुँदर बोधात्मक आलेख .

    ReplyDelete
  13. All of this proves that a women can do anything and everything almost perfectly !!

    ReplyDelete
  14. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    ReplyDelete
  15. बिलकुल सही कहा आपने...बड़ी गहरी और सामयिक बात कह दी आपने।
    अब चेतना जागृत हो चुकी है .. काफी बदलाव आ रहा है जो एक अच्छा संकेत है

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन आलेख....

    ReplyDelete
  17. A brilliant watch & study always impress me,a few little people use to do it. Terrible acts & facts on women open a dreadful seen . what a good thing if it would have been woman become stronger as man , world will change in to heaven. It is needed. Thanks for your commendable job .

    ReplyDelete
  18. डॉ शरद जी इसमें कोई संदेह नहीं नारियों की भागीदारी बढ़ी है आगे बढ़ी हैं सुखद भविष्य है नारियों के लिए कुछ अधिक सोचने वाली बढ़ी हैं पर इन्हें भी भ्रष्ट कुत्सित लोग मोहरा बनाये हैं इनका हाथ बांधे हैं इनका काम काज कुछ और ही चलाते हैं गहराई से देखिये पी यम को चलने वाले का कैसा नाम आता है महिला प्रधान या थाने की महिला सिपाही को कहीं दूर भेजा नहीं जा सकता इनके साथ संरक्षक रखना होता है अभी और मजबूत होने की जरुरत है हमारे महिला समाज को
    शुक्ल भ्रमर५

    ReplyDelete
  19. आज महिलाएं हर क्षेत्र में आगे...चाहें वो कोई भी क्षेत्र हो !
    अच्छी पोस्ट...

    ReplyDelete
  20. बढ़िया लेख ...
    नारी शक्ति को प्रणाम ....

    ReplyDelete
  21. Dr.Sharad ji aapke do lekh ek sath padhe hamare desh me kitna virodhabhas hai ek aur jahan nari ek shakti ki tarah desh chala rahi hai dusri aur nariyan garbhaavastha ke daouran mar rahin hain aapne bahut sare ankde diye hain ek achchha lekh hai .dono hi lekh uttam hai
    rachana

    ReplyDelete
  22. शरद जी आपने इस पोस्ट में बहुत मेहनत की है बहुत ही शालीन चित्रावली के संग विषय वस्तु को परोसा है फिर भी देश स्त्री अ -सुरक्षा के मामले में विश्व में चौथे पायेदान पर है .यह दुर्भाग्य पूर्ण नहीं तो और क्या है .देश की राजधानी महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित जगह बनके रह गई है जहां शीला जी देर रात महिलाओं को घर से न निकलने की सलाह दे चुकीं हैं .आपने अच्छे झरोखे सही मनसा से देखा लिखा है सब कुछ .

    ReplyDelete
  23. bahut accha likha hai aapne aap log mere blog par bhi aaye mere blog par aane ke liye link-"samrat bundelkhand"

    ReplyDelete
  24. मेरा बिना पानी पिए आज का उपवास है आप भी जाने क्यों मैंने यह व्रत किया है.

    दिल्ली पुलिस का कोई खाकी वर्दी वाला मेरे मृतक शरीर को न छूने की कोशिश भी न करें. मैं नहीं मानता कि-तुम मेरे मृतक शरीर को छूने के भी लायक हो.आप भी उपरोक्त पत्र पढ़कर जाने की क्यों नहीं हैं पुलिस के अधिकारी मेरे मृतक शरीर को छूने के लायक?

    मैं आपसे पत्र के माध्यम से वादा करता हूँ की अगर न्याय प्रक्रिया मेरा साथ देती है तब कम से कम 551लाख रूपये का राजस्व का सरकार को फायदा करवा सकता हूँ. मुझे किसी प्रकार का कोई ईनाम भी नहीं चाहिए.ऐसा ही एक पत्र दिल्ली के उच्च न्यायालय में लिखकर भेजा है. ज्यादा पढ़ने के लिए किल्क करके पढ़ें. मैं खाली हाथ आया और खाली हाथ लौट जाऊँगा.

    मैंने अपनी पत्नी व उसके परिजनों के साथ ही दिल्ली पुलिस और न्याय व्यवस्था के अत्याचारों के विरोध में 20 मई 2011 से अन्न का त्याग किया हुआ है और 20 जून 2011 से केवल जल पीकर 28 जुलाई तक जैन धर्म की तपस्या करूँगा.जिसके कारण मोबाईल और लैंडलाइन फोन भी बंद रहेंगे. 23 जून से मौन व्रत भी शुरू होगा. आप दुआ करें कि-मेरी तपस्या पूरी हो

    ReplyDelete
  25. समय बदलना ही चाहिये

    ReplyDelete
  26. डॉ. सुश्री शरद जी,

    आधी आबादी के हक में पूरे जोर से लिखा हुआ विचारोत्त्जक लेख आँखें खोलने के लिए पर्याप्त है।

    सार्थक लेखन के लिए बधाई....

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  27. फ्लेविया एग्निस बारे में जानकारी नहीं थी। आपके इस आलेख से उनके बारे में जानकारी मिली। अच्छा लगा।
    @ एक दिन महिला प्रताड़ना जैसे मामले अतीत का किस्सा बन कर रह जाएंगे।
    यह दिन जल्द से जल्द आए। यही कामना है।

    ReplyDelete
  28. बहुत बढ़िया और शानदार आलेख! आज के ज़माने में महिलाएँ पुरुष से हर काम में एक कदम आगे है! सारी महिलाओं को इस बात का गर्व है!

    ReplyDelete
  29. बहुत अच्छा लेख । ग्रामीण स्तर पर भी नारी की स्थिति में सुधार हो रहा है पर अभी बहुत कुछ होना बाकी है ।

    ReplyDelete
  30. --बहुत सुन्दर व सार्थक आलेख है...
    -----आज महिलाओं यह की स्थिति कोइ नयी बात नहीं है....भारत में सदा से ही स्त्री उच्च पदों पर विराजमान होती रही है....प्राचीन, अर्वाचीन, मध्य कालों में भी यही स्थिति थी नारी हर जगह मौजूद थी उच्चतम शिखर पर भी एवं उसी समय उसपर अत्याचार भी होते थे ...आज भी वह एक तरफ उच्चतम शिखरों पर है तो दूसरी ओर निकृष्टतम स्थिति में भी.....
    ---वस्तुतः यह मानव के अनाचार में लिप्तता का मामला है....न कि स्त्री-पुरुष का....
    --अतः जब तक मानव मात्र...स्त्री-पुरुष दोनों सदाचारी नहीं होंगे यह द्वैत-स्थिति समाज में सदा रहेगी...बस रूप बदलकर ..चाहे जो भी काल-खंड हो...

    ReplyDelete
  31. आबादी के एक बडे हिस्से को न्याय, बराबरी, सहारे, सुनवाई, आरक्षण या उसके विकल्पों की आवशय्कता तो है - शायद बेहतर और सक्षम रूप में।

    ReplyDelete
  32. Wah din jald hee aaye. Ye sahee hai ki mahilaen har kshetr men aage badh rahee hain. par abhee bhee bahut kuch karna baki hai. Aapki bat sahee hai ki pragati ke aasar hain aur sukhad hain. FLAVIA AGNES KE BARE MEN JANKAR ACHCHA LAGA

    ReplyDelete
  33. आपका स्वागत है "नयी पुरानी हलचल" पर...यहाँ आपके पोस्ट की है हलचल...जानिये आपका कौन सा पुराना या नया पोस्ट कल होगा यहाँ...........
    नयी-पुरानी हलचल

    ReplyDelete
  34. वर्तमान समय में महिलाओं के पास पुरुषों के सामान ही हर क्षेत्र में कदम बढ़ाने के लिए व्यापक क्षेत्र है.

    ReplyDelete
  35. बिलकुल सही कहा ,,.बड़ी गहरी और सामयिक बात कह दी आपने।
    अब चेतना जागृत हो चुकी है काफी बदलाव आ रहा है जो एक अच्छा संकेत है

    ReplyDelete