ग़ज़ल का पन्ना

ऐसे भी हैं पत्थर लोग


32 comments:

  1. धन्यवाद योगेन्द्र मौदगिल जी! आपके विचारों का सदा स्वागत है।

    ReplyDelete
  2. दीप जी,बहुत -बहुत ..शुक्रिया !

    ReplyDelete
  3. बढ़िया ग़ज़ल है.

    "अपने वादों को भूले हैं, कसमे भी खा-खा कर लोग".

    बहुत उम्दा.आपकी कलम को सलाम

    ReplyDelete
  4. 'Pani ki bhi kadr n jane' - jandar mudda uthaya hai aapne. baki ke sha'r bhi khoobsoort.

    ReplyDelete
  5. साबुत घर के टुकड़े टुकड़े तोड़ रहे हैं क्यूं कर लोग

    अकेला मिसरा ही
    ग़ज़ल का मिज़ाज बता पाने में कामयाब हो गया है
    और
    जीवन में इतने उलझे कि .....
    तक पहुँचते पहुँचते हर पढने वाला
    ग़ज़ल में खुद कहीं ढून्ढ पा रहा है ...

    अभिवादन स्वीकारें .

    ReplyDelete
  6. दिलबाग विर्क जी हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. दानिश जी,बहुत -बहुत ..शुक्रिया !

    ReplyDelete
  8. hindi gazal ek vidha hai jise dushyant ne prachalit kiya tha.Aap uss kari me jurkar is vidha ko jeevit rakhne ka sarahneey prayas kar rahin..aap ke udgar dil ko chhoo gaye.Itna hi kah sakta hun ki,
    "jo na jor sakte hain sab ko wahi sab shashak hain bane huye,
    nyaay ki kursi par baithe hain wo jinke haath khoon se sane huye."

    ReplyDelete
  9. विजय रंजन जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं। हार्दिक धन्यवाद!
    सम्वाद क़ायम रखें।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!

    ReplyDelete
  10. apne vadon ko bhule hain

    bahut hi satik vyangy sharad ji
    navincchaturvedi@gmail.com

    ReplyDelete
  11. नवीन सी चतुर्वेदी जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद!
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है......सम्वाद बनाएं रखें!

    ReplyDelete
  12. नदिया सूखी, सागर प्यासा .....बहुत सुन्दर प्रस्तुति .....पढ़ कर मुझे मेरी कविता की कुछ पंक्तियाँ याद आ गईं...'नदियाँ सूखी, कुएँ प्यासे, आसमान बादल को तरसे.मरुभूमि से जंगल देखो, पहाड़ मन पर बोझ भर है .क्या यही है मानव-प्रकृति .सब कुछ नष्ट हो रहा आज,बन मानव मस्तिष्क विकृति .
    आप के ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा .

    ReplyDelete
  13. द्वारकेश जी ,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं। हार्दिक धन्यवाद!
    सम्वाद क़ायम रखें।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!

    ReplyDelete
  14. बढ़िया ग़ज़ल है.
    well,
    to research ur Raam..visit now ---
    www.susstheraam.blogspot.com, www.theraam.weebly.com

    ReplyDelete
  15. sundar tatha sargarbhit rachana, shubh kamanayen.
    S.N.Shukla

    ReplyDelete
  16. vedna ka tar saptak chher daala aapne,
    gazal ki harek panki me sargarbhit sher dala aapne...

    bahut badhiya.

    ReplyDelete
  17. उम्दा .. लाजवाब... बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  18. आपने बहुत खूब लिखा है इस गजल को..
    गज़ल आज फिर से जिन्दा हो गयी... आभार..

    ReplyDelete
  19. Suresh Kumar
    Link http://sureshilpi-ranjan.blogspot.com

    ReplyDelete
  20. वर्तमान समाज का ख़ूबसूरत आइना. सुन्दर !!

    ReplyDelete
  21. Miss Sharad Ji! I appreciate, Your Blog, Write-ups, Poems & Ghazals, these all are really very Beautiful. I like it very much and I would like to you please also visit my Blog - Tumchhulo (http://tumchhulo.blogspot.com) and post your comments please.
    Dr. Ashok Madhup (Geetkar),
    NOIDA.

    ReplyDelete
  22. ग़ज़ल अच्छी लगी शरद जी, कुछ नवगीत भी लगाइये न...

    ReplyDelete
  23. Katra Katra Pighal raha hai, Mom Sareekha Waqt yahan, Jeevan Me Itne Uljhe Ki Bhool gaye Ye Aksar Log..Waaah wah kya khoob kahi Dr. Sharad Singh ji aapne wah..wah..regards rk

    ReplyDelete
  24. plz add me facebook... myfriends1960@gmail.com

    ReplyDelete

  25. अपने वादों को भूले हैं कसमें भी खा खा कर लोग ।
    समाज का यथार्थ झलकाती सुंदर गज़ल ।

    ReplyDelete
  26. आपके ब्‍लाग देखे । सामग्री संग्रहणीय है । मैं प्रोत्‍साहित हुआ

    ReplyDelete
  27. bahut hi umda likhti hai aap.bdhai

    http://geetantaraatmake.blogspot.in/

    ReplyDelete
  28. bahut sundar rachna hai...
    mere blog par bhi aapka swagat hai..
    iwillrocknow.blogspot.in

    ReplyDelete